योग : आध्यात्मिक दृष्टिकोण Yoga in Philosophical Aspect in Hindi

माना जाता है की योग की शरुआत स्वयं भगवान शिव ने की थी
शिवजी को आदियोगी के रूप में जाना जाता है। शिवजी को प्रथम योगी भी माना जाता है। सब कुछ शिव से ही आता है और शिव के पास वापस जाता है। शिव को एक निराकार रूप में वर्णित किया जाता है, एक अस्तित्व के रूप में नहीं। शिव को प्रकाश के रूप में नहीं, बल्कि अंधकार के रूप में वर्णित किया जाता है। केवल एक चीज जो हमेशा है, वो अंधेरा ही है। प्रकाश का कोई भी स्रोत – चाहे प्रकाश दिया हो या सूर्य – अंततः प्रकाश को देने की क्षमता खो देगा। प्रकाश शाश्वत नहीं है, यह कभी ना कभी समाप्त होता है। अंधकार हमेशा है – यह शाश्वत है। हर जगह अंधेरा है। यह केवल एक चीज है जो हमेशा व्याप्त है। जब हम “शिव” कहते हैं, तो हम एक योगी, आदियोगी या प्रथम योगी, और प्रथम गुरु के बारे में बोल रहे होते हैंl आज योग विज्ञान के रूप में जो हम जानते हैं, वो “शिव” उन सबका आधार है। योग का मतलब सिर्फ आपके सिर के बल खड़े होना या सांस रोककर रखना ही नहीं है, बलकि यह जीवन कैसे बनाया जाता है और इस जीवन को इसकी अंतिम संभावना तक कैसे ले जाया जा सकता है, इसकी आवश्यक प्रकृति को जानने के लिए योग विज्ञान और तकनीक है।

Read more

योग क्या है? What is Yoga in Hindi

योग शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक विषयों या विषयों का समूह है जिसकी उत्पत्ति प्राचीन भारत में हुई थी। योग हिंदू दार्शनिक परंपराओं के छह रूढ़िवादी विद्यालयों में से एक है। हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और जैन धर्म में योग विद्यालयों, प्रथाओं और लक्ष्यों की एक विस्तृत विविधता है। पश्चिमी दुनिया में “योग” शब्द अक्सर हठ योग के आधुनिक रूप को दर्शाता है। योग, जिसमें आसन कहे जाने वाले आसन शामिल हैं।

Read more

जानिए योगा के लाभ के बारे मे Benifits of Yoga in Hindi

योग एक मन-शरीर के बिच मे संतुलन लाने का अभ्यास है जिसमें सांस नियंत्रण, ध्यान और विशिष्ट शारीरिक मुद्राओं को अपनाने के तरीके शामिल हैं (जिन्हें आसन कहा जाता है)।
योग के लाभों में दर्द को कम करना और संतुलन और लचीलेपन में सुधार करना शामिल है। यह चिंता को कम करने, नींद में सुधार और मांसपेशियों के निर्माण और रखरखाव में मदद करता है।

Read more

जानिए 4 प्राणायाम के बारे मे जो अनिंद्रा से मुकति देता है 4 Pranayam helpfull for insomnia in Hindi

अपने जीवन में हर व्यक्ति कभी न कभी अनिद्रा की समस्या से परेशान होता है। नींद पूरी न होने की वजह से  कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होने लगती है।
एक संशोधन के अनुसार 72 प्रतिशत भारतीयों की रात में एक से तीन बार नींद टूटती है और 87 प्रतिशत ने माना कि नींद की कमी के कारण उनके स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है।
 चिड़चिड़ापन, ग़ुस्सा और कई प्रकार के मानसिक रोग  अनिद्रा के कारण हो सकते हैं।
  इसे दूर करने और नींद को बेहतर बनाने में प्राणायाम अच्छे साबित हो सकते हैं।

Read more

सूर्य नमस्कार कैसे करें? How to Do Surya Namaskar Complete Guide In Hindi

सूर्य नमस्कार के द्वारा त्वचा रोग समाप्त हो जाते हैं अथवा इनके होने की संभावना समाप्त हो जाती है। इस अभ्यास से कब्ज आदि उदर रोग समाप्त हो जाते हैं और पाचन तंत्र की क्रियाशीलता में वृद्धि हो जाती है। 
इस अभ्यास के द्वारा हमारे शरीर की छोटी-बड़ी सभी नस-नाडि़यां क्रियाशील हो जाती हैं, इसलिए आलस्य, अतिनिद्रा आदि विकार दूर हो जाते हैं।

Read more