पैन किलर(NSAID) दवाइओ की साइड इफेक्ट्स – Painkiller Side Effects in Hindi

पैन किलर(NSAID) दवाइओ की साइड इफेक्ट्स – Painkiller Side Effects in Hindi

  • Post comments:1 Comment

अक्सर यह कहा जाता है कि हमें पैन किलर(दर्द शामक ) दवाओं का सहारा नहीं लेना चाहिए और जब तक संभव हो दर्द सहना चाहिए। क्‍या पैन किलर दवाइयों को खाने के नुकसान (Painkiller Side Effects in Hindi)  हमारी कल्‍पना से ज्‍यादा है? जी  हां, यह बिलकुल सच है कि हमें दर्द निवारक दवाओं का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे कई साइड इफेक्ट्स होते हैं। जो लोग मेडिकल स्‍टोर से बिना प्रेस्क्रिब्शन पैन किलर ले रहे हैं उन्‍हें इस चीज से रोका जाना चाहिए और दर्द के पीछे के वास्तविक कारणों को जानने पर जोर देना चाहिए। लोगों को पैन किलर दवाओं के लगातार इस्तेमाल से बचना चाहिए।

चिकित्सा विज्ञान के अंदर पैन किलर दवाई को दो प्रमुख हिस्सो मे बांटा गया है

  1. ओपोइड (नार्कोटिक) एनल्जेसिक 
  2. NSAID

1 ओपोइड एनाल्जेसिक : आम तौर पर इन दवाई का उपयोग सिर्फ गंभीर परिस्थितियों मे ही सिर्फ पेशेवर चिकित्सक द्वारा किया किया जाता है । इसलिए इन दवाई आम लोगो को आसानी से उपलब्ध नहीं होती ।

2 NSAID : वैसे तो भारत मे कोई भी दवाई डॉक्टर के पर्चे के बिना बेचना या खरीदना कायदे के विरुद्ध मे है लेकिन फिर भी यह दवाई आम लोगो को आसानी से उपलब्ध हो जाती है। और बिना सोचे समजे लोग इसका इस्तेमाल करते है जिनका उसको गंभीर परिणाम भोगतने पड़ते है । इसलिए हम यहाँ मुख्य

रूप से NSAID पैन किलर दवाई के साइड इफेक्ट्स  के बारे मे चर्चा करेंगे ।

NSAID दवाई के बारे मे ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे
NSAID (दर्द शामक) दवाई क्या है? और वे कैसे काम करती है?

पैन किलर कैसे काम करते हैं? यह एक इलाज है या सिर्फ एक सप्रेसन (दमनकारी) है?

यह सिर्फ एक दमनकारी है। यह तीन तरीकों से काम करता है- एंटी-इंफ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक और एंटीपीयरेटिक। तो, हर दर्द निवारक के काम करने का अपना तरीका है।

इन पैन किलर दवाओं के दीर्घकालिक साइड इफेक्ट्स क्या हैं और लगातार पैन किलर दवाओं के सेवन के बाद किन अंगों को नुकसान होने का सबसे अधिक जोखिम है? – Painkiller Side Effects in Hindi

यह कई अंगों को प्रभावित करता है।

 

  1.  पहले व्यक्ति के पेट में दर्द या अल्सर का अनुभव हो सकता है।  
  2. मतली या उल्टी का अनुभव भी हो सकता है।
  3.  लंबे समय में लिवर, हृदय और किडनी को प्रभावित करता है। 
  4. पैन किलर दवाओं के सेवन से किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव किसी के स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा जोखिम है।

क्या पैन किलर कैंसरकारी हैं?

कुछ अध्ययन हैं जो दावा करते है है कि पैन किलर से किडनी का  कैंसर हो सकता है। बाकी लोगों में किडनी कैंसर होने का जोखिम भी बहोत अधिक है।
 एक प्रमुख पत्रिका द्वारा एक और अध्ययन किया गया जिसमें पाया गया कि पैन किलर दवाओं के सेवन से स्तन कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। पैन किलर दवाओं के दुष्प्रभावों को साबित करने के लिए कई अन्य संसोधन भी चल रहे हैं।

क्या पैन किलर दवाएं एक नशे की लत जैसा हैं?

हाँ यह बिलकुल सच है की  पैन किलर दवाओं में से कुछ अन्य की तुलना में अधिक नशे की लत हैं। उनमें से कुछ आसानी से उपलब्ध हैं जिन्हें मेडिकल स्‍टोर पर नहीं दिया जाना चाहिए।

पैन किलर दवाओं के संयोजन के दुष्प्रभाव क्या हैं? – Combination Painkiller Side Effects in Hindi

जितना संभव हो दवाओं के संयोजन से बचना चाहिए। एक ही दिन में कई पैन किलर दवा नहीं लेनी चाहिए। कई बार लोग इन पैन किलर दवाओं का सेवन खाली पेट भी करते हैं जिससे पेट में अल्सर हो जाता है। लोगों को खुद से दवा लेने से बचना चाहिए। डॉक्टरों और सरकार को मिलकर प्रेस्क्रिब्शन के बिना दवा देने पर प्रतिबंध लगाना चाहिए।

पैन किलर दवाओं का सबसे अच्छा विकल्प क्या है? – Alternative of Pain Killer in Hindi

 दर्द निवारक दवा के बिना कोई दर्द से कैसे निपट सकता है?
ऐसे कई विकल्प उपलब्ध हैं जो लोगों को पैन किलर दवाओं का अधिक सेवन करने से रोक सकते हैं। नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए या फिजियोथेरेपी या योग का अभ्यास करना चाहिए। व्यक्ति एक्यूप्रेशर भी आजमा सकता है लेकिन प्रशिक्षित व्‍यक्ति से ही करना चाहिए वरना दर्द को कम करने की वजय बढ़ा भी सकता है । 

 

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.
Thanks for subscribing!

This Post Has One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.