एरोमा थेरेपी क्या है? उपचार एवं लाभ – What is Aromatherapy in Hindi

Aromatherapy in hindi.

अरोमाथेरेपी (Aromatherapy in Hindi.) एक प्राकृतिक उपचार पद्धति है जो स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए प्राकृतिक पौधों के अर्क का उपयोग करता है।
कभी-कभी इसे एसेंशियल ऑयल चिकित्सा भी कहा जाता है। अरोमाथेरेपी सुगंधित आवश्यक का उपयोग औषधीय रूप से करता है, यह प्राकृतिक तेल शरीर, मन और आत्मा के स्वास्थ्य में सुधार करने के जाना जाता है । यह शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य दोनों को बढ़ाता है।

अरोमाथेरेपी को एक कला और एक विज्ञान दोनों के रूप में माना जाता है। हाल ही में, अरोमाथेरेपी
विज्ञान और चिकित्सा के क्षेत्र में मान्यता अधिक प्राप्त हुई है।

अरोमाथेरेपी कि शरुआत कब हुई ? – History of Aromatherapy in Hindi

मनुष्य ने अरोमाथेरेपी का उपयोग हजारों वर्षों से किया है। भारत, चीन, मिस्र और में प्राचीन संस्कृतियां कहीं ना कही रेजिन, बाम और तेल में सुगंधित पौधों के घटक शामिल करते आये है। ये प्राकृतिक पदार्थ
चिकित्सा और धार्मिक उद्देश्यों के लिए भी इस्तेमाल किया जाता था। वे शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों लाभों के लिए जाने जाते थे।
10 वीं शताब्दी में फारसियों को एसेंशियल ऑयल के आसवन(Distillation) का श्रेय दिया जाता है, हालांकि यह पद्धति बहोत पुरानी है इससे पहले लंबे समय तक उपयोग मे ली गयी थी ।
एसेंशियल ऑयल के आसवन के बारे में जानकारी 16 वीं शताब्दी मे जर्मनी मे प्रकाशित की गई थी। 19 वीं शताब्दी में फ्रेंच चिकित्सकों ने बीमारी के इलाज में एसेंशियल ऑयल की क्षमता को विश्व के सामने लाया था।

आधुनिक चिकित्सा पद्धति 19 वीं शताब्दी में अधिक स्थापित हो गई और रासायनिक दवाओं का उपयोग करने पर ज्यादा ध्यान केंद्रित किया। हालाँकि, फ्रांसीसी और जर्मन डॉक्टरों ने अभी भी बीमारी के इलाज में प्राकृतिक वनस्पति की भूमिका को ज्यादा मान्यता दी है जिसका मूल कारण यह है की ये प्राकृतिक स्त्रोत होने के कारण दुष्प्रभाव बहोत कम पाए जाते है ।

“अरोमाथेरेपी” शब्द को सबसे पहले एक फ्रांसीसी इत्रकार(perfumer) और रसायनशास्त्री रेने-मौरिस गैटेफोसे ने एक पुस्तक में लिखा था।

    रेने-मौरिस गैटेफोसे Image credit: wikipedia

जिसको आधुनिक अरोमाथेरपी का जनक कहा जाता है
रेने-मौरिस गैटेफोसे अरोमाथेरपी विषय पर लिखा गया था जो 1937 में प्रकाशित हुआ था। उन्होंने पहले ही इसकी चिकित्सा क्षमता की खोज कर ली थी और उसने
जलने के इलाज में लैवेंडर तेल का इस्तेमाल भी बताया था ।यह पुस्तक चिकित्सा स्थितियों के उपचार में एसेंशियल ऑयल के उपयोग पर चर्चा करती है।

अरोमाथेरेपी उपचार कैसे काम करता है? – How Aromatherapy Works in hindi.

अरोमाथेरेपी इन जैसे उत्पादों का उपयोग करके गंध और त्वचा के अवशोषण के माध्यम से काम करती है:

  • डिफ्यूज़र(diffusers)
  • सुगंधित स्प्रिटर्स(aromatic spritzers)
  • इनहेलर(inhaler)
  • स्नान के लिए साल्ट के रूप मे (bathing salt)
  • शरीर के तेल, क्रीम, या मालिश के लिए लोशन(lotion)
  • चेहरे का स्टीमर(face streamer)
  • गर्म और ठंडे संपीड़ित(hot and cold compressor)
  • मिट्टी के फेस मास्क (clay face mask )

आप इन्हें अकेले या किसी भी संयोजन में उपयोग कर सकते हैं।
बाजार में लगभग एक सौ से ज्यादा प्रकार के एसेंशियल ऑयल उपलब्ध हैं
कोई भी एसेंशियल ऑयल एक प्रतिष्ठित निर्माता से खरीदें क्योंकि तेल हमारेCentral Drugs Standard Control Organization (CDSCO जो भारत मे दवा की गुणवत्ता का नियमन करती है )  द्वारा विनियमित नहीं है।
उत्पाद जो 100 प्रतिशत प्राकृतिक है। इसमें कोई भी एडिटिव या सिंथेटिक तत्व नहीं होना चाहिए।
यह एसेंशियल ऑयल आपको मेडिकल स्टोर, आयुर्वेदिक औषधि भंडार, सुपर मार्किट या ऑनलाइन मिल सकते है

प्रत्येक एसेंशियल ऑयल में अद्वितीय उपचार गुणों, उपयोगों और प्रभावों की एक सरणी होती है। एक से ज्यादा एसेंशियल ऑयल का मिश्रण
एक synergistic मिश्रण बनाते है और भी अधिक लाभ पैदा करता है।

अरोमाथेरेपी के लाभ – Benefits of Aromatherapy in Hindi

निचे अरोमाथेरेपी के लाभों की एक सूचि है।

  • दर्द का निवारण
  • नींद की गुणवत्ता में सुधार
  • तनाव और चिंता को कम करता है 
  • घावों को शांत करना
  • सिरदर्द और माइग्रेन का इलाज करता है 
  • कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम करना
  • श्रम की थकान को कम करना
  • बैक्टीरिया, वायरस या कवक से लडता है 
  • पाचन में सुधार
  • प्रतिरक्षा में वृद्धि

अप्रमाणित दावे – Claims Aromatherapy in Hindi

अरोमाथेरेपी के लिए वैज्ञानिक प्रमाण कुछ क्षेत्रों में सीमित माना जाता है। समर्थन करने के लिए अनुसंधान के अभी आभाव है लेकिन अल्जाइमर रोग के इलाज में अरोमाथेरेपी का उपयोग, पार्किंसंस रोग और हृदय रोग के इलाज मे इसका महत्वपूर्ण योगदान हों सकता है ।
इसके अलावा निम्न लिखित परिस्थिति मे एरोमा थेरेपी फायदेमंद पायी जाती है
अरोमाथेरेपी में कई स्थितियों का इलाज करने की क्षमता है, जिनमें शामिल हैं:

  • दमा
  • अनिद्रा
  • थकान
  • डिप्रेशन
  • सूजन
  • परिधीय(peripheral) न्यूरोपैथी
  • मासिक धर्म के संबंधित रोग
  • गंजापन 
  • कैंसर
  • स्तंभन दोष
  • गठिया
  • रजोनिवृत्ति

सबसे लोकप्रिय अरोमाथेरेपी तेल – Popular Essential Oil in Hindi

नेशनल एसोसिएशन फॉर होलिस्टिक अरोमाथेरेपी के अनुसार, सबसे लोकप्रिय एसेंशियल ऑयल हैं:

  • clary sage
  • cypress
  • eucalyptus
  • fennel
  • geranium
  • ginger
  • helichrysum
  • lavender
  • lemon
  • lemongrass
  • mandarin
  • neroli
  • patchouli
  • peppermint
  • Roman chamomile
  • rose
  • rosemary
  • tea tree
  • vetiver
  • ylang ylang

आप किसी भी तरह से एसेंशियल ऑयल का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, उन्हें बॉडी लोशन या वाहक तेलों में मिलाये जैसे नारियल का तेल अगर आप गंजेपन के लिए इस्तेमाल करना चाहते है तो ,
और फिर उन्हें संबधित बाहरी अंग पर लागू करें। एसेंशियल ऑयल के साथ एक चेहरे का टोनर, शैम्पू, या कंडीशनर की क्वालिटी बढ़ाने की कोशिश करें।
या उन्हें तरल साबुन, टूथपेस्ट या माउथवॉश में शामिल करें। आप तेलों को फैला या छिड़क भी सकते हैं
एक कमरे में या उन्हें स्नान करते समय आप पानी के साथ भी इस्तेमाल कर सकते है
ज्यादा जानकारी के लिए एसेंशियल ऑयल की बोतल मे दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करें.

अगर आप पहली बार अरोमाथेरपी का इस्तेमाल करना चाहते है तो आपको एक पेशेवर अरोमाथेरपिस्ट के मार्गदर्शन के साथ करना आवश्यक है

एक अरोमाथेरेपिस्ट से परामर्श के दौरान, अरोमाथेरपिस्ट आपको स्वास्थ्य और जीवन शैली के संबंधित कुछ सवाल आपको पूछेंगे और फिर वो आपके व्यक्तिगत रोग के लक्षणों के अनुरूप बेहतरीन पद्धति से आपका इलाज करेगा
आपके अरोमाथेरेपिस्ट के साथ कुछ सत्र हो सकते हैं,

चूंकि अरोमाथेरेपी एक पूरक चिकित्सा है, इसलिए आपको अपने सत्र शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।
इस तरह आपकी एसेंशियल ऑयल चिकित्सा को किसी भी चिकित्सा देखभाल के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार किया जा सकता है

यदि आप घर पर स्वयं उपचार करना चाहते हैं तो ऑनलाइन और पुस्तकों में बहुत सारी जानकारी उपलब्ध है।
ऐसे पुस्तके भी आजकल बाजार मे उपलब्ध है जो घर बैठे अरोमाथेरपी कैसे करें इसके बारे मे विस्तार से बताते हैं जिन्हें आप अरोमाथेरेपी के बारे में अधिक जानने के लिए ले सकते हैं।

दुष्प्रभाव

अधिकांश एसेंशियल ऑयल उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं। लेकिन इनका उपयोग करते समय आपको कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए,
साथ ही साइड इफेक्ट्स से आपको अवगत होना चाहिए, खासकर यदि आप किसी भी प्रिस्क्रिप्शन वाली दवाओं को लेते हैं।

सीधे आपकी त्वचा पर एसेंशियल ऑयल लागू न करें। तेलों को पतला करने के लिए हमेशा एक वाहक तेल का उपयोग करें।
एसेंशियल ऑयल का उपयोग करने से पहले एक त्वचा पैच परीक्षण करना याद रखें। साइट्रस आवश्यक तेल
अपनी त्वचा को सूरज के प्रति अधिक संवेदनशील होते है , अगर आप साइट्रस तेल का इस्तेमाल करते है तो आपको धूप से बचना चाहिए।

बच्चे और महिलाएं जो गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, उन्हें एसेंशियल ऑयल का उपयोग सावधानी के साथ और उसके एक डॉक्टर की देखरेख नीचे करना चाहिए
आपको कुछ तेलों से बचना चाहिए और एसेंशियल ऑयल को कभी नहीं निगलना चाहिए।

एसेंशियल ऑयल के उपयोग के दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • चकत्ते
  • अस्थमा का दौरा
  • सिर दर्द
  • एलर्जी
  • त्वचा की जलन
  • बेचैनी

यदि आपको निम्न लिखित परिस्थिति से गुजर रहे है तो एसेंशियल ऑयल का उपयोग सावधानी से करें:

  • हे फीवर(किसी भी तत्व के प्रति ज्यादा सवेंदनशीलता) 
  • दमा
  • मिरगी
  • उच्च रक्त चाप
  • खुजली
  • सोरायसिस

     SUMMARY

जब आप एसेंशियल ऑयल के उपयोग करना चाहते हैं, तो ध्यान दें कि विभिन्न तेल और उपयोग के तरीके आपको कैसे प्रभावित करते हैं।

किसी भी अरोमाथेरेपी उपचार को शुरू करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से बात करें। याद रखें कि अरोमाथेरेपी एक
पूरक चिकित्सा इसके अपने पारंपरिक चिकित्सा पद्धति के विकल्प मे नहीं चुन ना चाहिए। इसका मतलब किसी डॉक्टर द्वारा अनुमोदित उपचार योजना को बदलना नहीं है।

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.
3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *