Skip to content

सूर्य नमस्कार कैसे करें? – How to Do Surya Namaskar In Hindi

सूर्य नमस्कार के द्वारा त्वचा रोग समाप्त हो जाते हैं अथवा इनके होने की संभावना समाप्त हो जाती है। इस अभ्यास से कब्ज आदि उदर रोग समाप्त हो जाते हैं और पाचन तंत्र की क्रियाशीलता में वृद्धि हो जाती है। 
इस अभ्यास के द्वारा हमारे शरीर की छोटी-बड़ी सभी नस-नाडि़यां क्रियाशील हो जाती हैं, इसलिए आलस्य, अतिनिद्रा आदि विकार दूर हो जाते हैं।

Homemade Cleanser in Hindi

घर पर तैयार क्लींजर से करें चेहरे की सफाई – Homemade Cleanser in Hindi

चेहरा साफ़ करने के लिए उसे धोना ही काफी नहीं है बल्कि गहराई से सफ़ाई भी ज़रूरी है। इस तरह सफ़ाई न होने के कारण त्वचा पर मुंहासे, ब्लैक हैड्स होने के साथ ही त्वचा बेजान और रूखी भी नज़र आती है। त्वचा को दाग़-धब्बे रहित व चमकदार बनाए रखने के लिए घरेलू क्लींज़र अच्छा ज़रिया हैं। ये त्वचा को साफ़ करने के साथ ही निखरा और मुलायम बनाते हैं।

स्किन से लेकर बालों तक की नमीं को बरकरार रखें- Beauty Tips for Winter in Hindi

सर्दियों में ड्राय स्किन और डैंड्रफ की समस्या सबसे कॉमन है। बालों और स्किन का रूखापन रोकने के लिए मॉश्चराइज करना ही जरूरी नहीं बल्कि कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी है। जैसे बहुत ज्यादा गर्म पानी का इस्तेमाल स्किन और बाल, दोनों को नुकसान पहुंचाता है। जानिए इस मौसम में कैसे रखें शरीर का ख्याल….

सर्दियों में अस्थमा मरीज के लिए डाइट – Asthma Patient Diet in Hindi

सर्दी का मौसम जहां स्वस्थ लोगों के लिए सौगात बनकर आता है तो वहीं अस्थमा के रोगियों के लिए परेशानी का सबब भी रहता है। अस्थमा रोगियों के लिए खासकर चढ़ती और उतरती सर्दी ज्यादा घातक होती है, क्योंकि इस दौरान मौसम में तेजी से बदलाव होता है। इससे उनमें सांस चलने की समस्या काफी बढ़ जाती है। अब जबकि मकर संक्रांति के बाद सूरज अपनी दिशा बदलेगा तो बदलते मौसम में अस्थमा रोगियों को कुछ ज्यादा सतर्कता रखनी होगी। घर के बाहर निकलने पर इन्हें अपने मुंह और नाक को मास्क या कपड़े से कवर करके रखना होगा। इसके अलावा डाइट में कुछ चीजों को शामिल करने से भी अस्थमा के मरीजों को थोड़ी सहूलियत हो सकती है। एसे मे हम आपको बताने जा रहे हे तीन असरदार तरीके…

स्वस्थ, फिट और खुश रहने के 5 तरीके – Ways to Be Healthy in Hindi

यहां आपको स्वस्थ, फिट और खुश रहने के 5 आसान तरीके बताए गए हैं। और अभी उन्हें अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करने के लिए पूरी जीवन शैली  अपनाए।

आइए इसका सामना करते हैं, हम सभी जानते हैं कि हम स्वस्थ रहने के लिए अपनी साप्ताहिक दिनचर्या में सुधार कर सकते हैं, अधिक फिट हो सकते हैं और कम तनाव महसूस कर सकते हैं। दुर्भाग्य से, अक्सर हमारे व्यस्त कार्यक्रम, ओवरबुक किए गए कैलेंडर और कई प्रतिबद्धताएं खुद का स्वस्थ्य एवं फिट होने के रास्ते में बाधा हैं।