एसिडिटी के 21 प्राकृतिक उपचार – Acidity Home Remedies in Hindi

   

 

Acidity Home Remedies in Hindi

   
हम में से प्रत्येक को किसी ना किसी समय एसिडिटी से सामना करना ही पडता है। बच्चों और वयस्कों में खाने की आदतों के कारण एसिडिटी एक आम समस्या बन गई है। एसिडिटी को ठीक करने के लिए दवाओं के बजाय, घरेलू उपचार (Acidity Home Remedies in Hindi)  के लिए जाना हमेशा बेहतर होता है। ये घरेलू उपचार पेट में एसिड के अत्यधिक उत्पादन को रोकते हैं और एसिडिटी के लक्षणों से राहत देते हैं।
एसिडिटी के बारे मे ज्यादा जानकारी के लिए निचे क्लिक करें
एसिडिटी क्या है ?

यहाँ एसिडिटी के प्राकृतिक घरेलू उपचार की एक सूची दी गई है:

1. पीने का पानी: – Water Acidity Home Remedies in Hindi

Water Acidity Home Remedies in Hindi

 जी हाँ !एसिडिटी के इलाज के लिए नियमित रूप से सुबह दो गिलास सामान्य पानी पीना सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। यह पेट में एसिड के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है और पाचन में सुधार करता है।
यह भी पढे
पानी पीने के लिए 8 सर्वश्रेष्ठ समय

2. ठंडा दूध: – Milk Acidity Home Remedies in Hindi

Milk Acidity Home Remedies in Hindi

 ठंडा दूध गर्म दूध की तुलना में असहजता  और एसिड रिफ्लक्स के इलाज के लिए एक आदर्श उपाय है। इसमें मौजूद कैल्शियम पेट में होने वाली जलन से तुरंत राहत दिलाता है। यह पेट में एसिड के निर्माण में बाधा डालता है और अतिरिक्त एसिड को भी अवशोषित करता है।
यह भी पढे
सेहत के खजाने से भरपूर होता है दूध, पीने के भी है खास नियम

3.  तुलसी:  

 

तुलसी आयुर्वेद मे औषधि की रानी के नाम से जानी जाती है , गैस्ट्रिक एसिड के प्रभाव को कम करके और गैस के अतिरिक्त उत्पादन को कम करके एसिडिटी से पीड़ित व्यक्ति की मदद करती है। नियमित रूप से 2-3 तुलसी के पत्ते चबाने से एसिडिटी की समस्या दूर हो जाती है।
यह भी पढे
जानीये औषधियो की रानी तुलसी के अदभुत गुण

4. गुड़ :

 क्या आपने कभी सोचा है कि हमारे बुजुर्ग हर भोजन के बाद गुड़ क्यों खाते हैं? क्योंकि यह पाचन के लिए अच्छा होता है। यह पेट में अम्लता को कम करता है जिससे यह अधिक क्षारीय हो जाता है। हर भोजन के बाद गुड़ खाने की आदत बनाएं। लेकिन अगर आपको  डायबिटीस की बीमारी है तो गुड का सेवन ना करें या डॉक्टर के परामर्श से सिमित मात्रा मे सेवन करें

5. अदरक: – Ginger Acidity Home Remedies in Hindi

Ginger Acidity Home Remedies in Hindi

 एसिड रिफ्लक्स के इलाज के लिए अदरक एक अनुशंसित उपाय है क्योंकि यह शरीर के पीएच(pH) स्तर को संतुलित रखता है। यह पेट के एसिड के स्तर को कम करके पेट को आराम देता है। बेहतर परिणाम के लिए अदरक के रस में थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर इसका सेवन करें।

6. पुदीना के पत्ते: – Mint Acidity Home Remedies in Hindi

Mint Acidity Home Remedies in Hindi

 एसिडिटी के लिए एक दवा ‘पुदीन हरा’ का नाम तो आपने सुना ही होगा । ये दवा पुदीने के अर्क से बनी होती है जो पेट में एसिड रिफ्लक्स को हल्का करने में मदद करती है। पुदीना एक प्रभावी और सबसे अच्छा प्राकृतिक शीतलक है। पुदीने की कुछ पत्तियों को उबालें और ठंडा होने पर इस पानी को पी लें।

7. एलोवेरा(धृत कुमारी ):

 एसिडिटी के इलाज के लिए एलोवेरा के पौधे को एक प्रभावी घरेलू उपाय भी माना जा सकता है। पौधे के एंटी इंफ्लामेटरी गुण पेट में सूजन को कम करते हैं और पाचन तंत्र को शांत करते हैं। नाराज़गी को ठीक करने के लिए एलोवेरा जूस और जेल का सेवन किया जा सकता है। भोजन से पहले एलोवेरा उत्पादों का सेवन आदर्श है क्योंकि यह भोजन के प्रभावी पाचन को बढ़ावा देता है।

8.  छाछ(Butter Milk ):

 छाछ अम्ल प्रतिक्षेप(antidote) की तरह काम करता है। ठंडी छाछ का एक गिलास पेट पर जादू की तरह काम करता है और पेट पर ठंडा प्रभाव डालता है। छाछ में मौजूद लैक्टिक एसिड एसिडिटी के लक्षणों और पेट में जलन को कम करता है। अपने आप को अम्लता से राहत देने के लिए मसालेदार और भारी भोजन के बाद यह प्रोबायोटिक पेय लें। बेहतर परिणाम के लिए इस पेय पर काली मिर्च पाउडर छिड़कें।

9. नारियल पानी: 

नारियल पानी पेट के एसिड के स्राव को सामान्य रखने में मदद करता है। इस जादुई पानी में उच्च फाइबर सामग्री अपच और एसिड रिफ्लक्स को रोकती है।

10.  सौंफ: – Fennel Seed Acidity Home Remedies in Hindi

Fennel Seed Acidity Home Remedies in Hindi

लोग अक्सर रात के खाने के बाद सौंफ के बीज या सौंफ का सेवन करते हैं। क्या आपने कभी सोचा है क्यों? ये बीज एसिडिटी से पेट को राहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं और किसी भी तरह के पेट की ऐंठन को रोकते हैं। वे खनिज, विटामिन और फाइबर से भरे होते हैं जो पाचन प्रक्रिया का समर्थन करते हैं। आप कुछ सौंफ के बीजों को पानी में भिगोकर भी पी सकते हैं और हर रोज इसका सेवन करें

11. अनानास का रस: 

एसिडिटी से छुटकारा पाने में अनानास का रस बहुत प्रभावी है। इसमें एंजाइम होते हैं जो पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के उत्पादन स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और हाइपर एसिडिटी को रोकते हैं। इस रस में एक चुटकी नमक मिलाने से इसके परिणाम बढ़ जाएंगे।

12. जीरा: – Cumin Seed Acidity Home Remedies in Hindi

Cumin Seed Acidity Home Remedies in Hindi

 

 

ये बीज एक शक्तिशाली एसिड न्यूट्रलाइज़र के रूप में कार्य करते हैं जो पाचन में सुधार करते हैं और पेट दर्द को कम करते हैं। एसिडिटी के इलाज के लिए इन बीजों को कई तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है जैसे – आप इन बीजों को थोड़े गर्म पानी के साथ कच्चा खा सकते हैं या आप बीजों को उबाल भी सकते हैं और भोजन के बाद इस पानी को पी सकते हैं या एक गिलास पानी में कुछ कुचले और भुने हुए बीजों को घोलकर पी सकते हैं ।

13.  आंवला: Gooseberry Acidity Home Remedies in Hindi

Gooseberry Acidity Home Remedies in Hindi

आंवला एक गुण संपन्न आयुर्वेदिक खाद्य पदार्थ है, जो इसके विस्तृत लाभों के लिए जाना जाता है। इस भोजन का शांत प्रभाव इसे अम्लता के लिए एक प्राकृतिक बाधा बनाता है। यह क्षतिग्रस्त पेट और अन्नप्रणाली को भी ठीक करता है। एसिडिटी की जलन को रोकने के लिए नियमित रूप से एक चम्मच आंवला पाउडर का सेवन फायदेमंद होता है।

14. वेजिटेबल रायता: 

एसिड रिफ्लक्स से पीड़ित होने पर ककड़ी, टमाटर, या धनिया जैसी सब्जियों से बना रायता खाना बेहद मददगार होता है। आप इस रायता में कुछ भुना हुआ जीरा पाउडर मिला सकते हैं ताकि इसे और अधिक स्वादिष्ट और स्वस्थ बनाया जा सके।

15.  अजवाईन: Ajwain Seed Acidity Home Remedies in Hindi

Ajwain Seed Acidity Home Remedies in Hindi

अजवाईन एंटी-एसिड गुणों से भरपूर होती है जो एसिड रिफ्लक्स के इलाज के लिए एक अच्छा उपाय है। दो हफ्ते तक अजवाईन, काला नमक और गर्म पानी का एक साथ सेवन करना एसिडिटी से छुटकारा पाने का एक आदर्श घरेलू उपाय है। आप इन बीजों को पानी में उबाल भी सकते हैं और मिश्रण को छान कर भी पी सकते हैं।

16.  दालचीनी: Cinnamon Acidity Home Remedies in Hindi

Cinnamon Acidity Home Remedies in Hindi

यह मसाला न केवल भोजन को स्वादिष्ट बनाता है, बल्कि एसिडिटी के लक्षणों से राहत दिलाने में भी मदद करता है। यह एक प्राकृतिक एंटासिड है जो पाचन में सुधार करता है। दालचीनी की चाय होने से जठरांत्र संबंधी मार्ग के संक्रमण से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

17. केला: 

जब पेट से संबंधित बीमारियों की बात आती है, तो केला बहुत अधिक महत्व रखता है। यह फल प्रकृति में क्षारीय है और आपके पेट पर एसिड के प्रभाव को कम करता है। एसिडिटी से पीड़ित होने पर हर दिन केला खाना एक आदर्श विकल्प है।

18. लहसुन: 

क्या आप सूची में लहसुन देखकर हैरान हैं? यदि हाँ, तो हम आपको बता दें कि लहसुन अपच और एसिड रिफ्लक्स के इलाज के लिए एक अच्छा घरेलू उपाय है। यह एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध है जो इसे एसिड रिफ्लक्स का मारक बनाता है। भोजन तैयार करने में लहसुन का सेवन पेट के स्वास्थ्य को प्रोत्साहित करने और अम्लता को रोकने के लिए आदर्श है।

19. कच्चा बादाम: 

यह एक और घरेलू उपाय है जो एसिडिटी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें पानी में न भिगोएँ या किसी भी तरह से बादाम से छेड़छाड़ न करें। कच्चे बादाम में प्राकृतिक तेलों और फाइबर की समृद्ध सामग्री होती है जो खाद्य पदार्थों के उचित पाचन में मदद करती है।

20. नींबू का पानी:

 नींबू पानी एसिडिटी का इलाज करने के लिए एक अच्छा घरेलू उपाय है और पाचन को प्रोत्साहित करता है। यह आपके पेट में मौजूद एसिड के प्रभाव को बेअसर करने में मदद करता है। भोजन से पहले इस पानी को पीने से पाचन को बढ़ावा मिलता है। बेहतर परिणाम के लिए आप इस पानी में जीरा पाउडर और सेंधा नमक मिला सकते हैं।

21. पपीता: 

अपने आहार में पपीते को शामिल करने से आपके पाचन में सुधार और अम्लता को कम करने में मदद मिलती है। फाइबर सामग्री अतिरिक्त एसिड के पेट को साफ  करने में मदद करती है।

 

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *