DNA in Hindi
Medical Terms In Hindi

DNA क्या है ? संरचना एवं कार्य What is DNA in Hindi Structure and Functions

 

DNA क्या है ? What is DNA in HIndi 

 

डीएनए (DNA in Hindi) एक प्रकार का जैविक अणु है , जो इंसान सहित अन्य कई सजीव के गुणों को एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी को स्थानांतरित करता है। सिर्फ मनुष्य ही नहीं , परंतु संसार में मौजूद ज़्यादातर जीवों में भी यह गुणों को एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी तक पहुँचाने का कार्य करता है। प्रत्येक जीव की हर एक कोषिका में DNA मौजूद होता है।

 

डीएनए (DNA in Hindi) का फुल फॉर्म यानि पूरा नाम डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड (deoxyribonucliec acid ) है। यह न्यूक्लियोटाइड्स नामक जैविक बुल्डिंग ब्लॉकों की इकाइयों(nucleotide) से बना है।

DNA न केवल मनुष्यों के लिए, बल्कि अधिकांश अन्य जीवों के लिए भी एक महत्वपूर्ण रूप से महत्वपूर्ण अणु है। DNA में हमारी वंशानुगत सामग्री और हमारे जीन शामिल हैं – जो हमें अद्वितीय(unique) बनाता है।

लेकिन वास्तव में DNA क्या करता है? डीएनए की संरचना के बारे में अधिक जानने के लिए पूरा लेख पढ़े ।

 

 

डीएनए की संरचना Structure of DNA in Hindi

 

डीएनए अणु न्यूक्लियोटाइड से बना हुआ होता है। प्रत्येक न्यूक्लियोटाइड में तीन अलग-अलग घटक होते हैं –

  • शुगर,
  • फॉस्फेट समूह और एक
  • नाइट्रोजन आधार।

DNA में शर्करा को 2’-deoxyribose कहा जाता है। ये शुगर अणु फॉस्फेट समूहों के साथ एकान्तर यानि alternate होते हैं, जिससे डीएनए स्ट्रैंड का “बैकबोन” बनता है।

न्यूक्लियोटाइड में प्रत्येक शुगर में एक नाइट्रोजन आधार होता है। डीएनए में नाइट्रोजन के चार अलग-अलग प्रकार पाए जाते हैं। उनमे शामिल है:

  • एडेनिन- Adenine (A)
  • साइटोसिन-cytosine (C)
  • गुआनिन-guanine (G)
  • थाइमिन-thymin (T)

DNA in Hindi

Image Source- Wikipedia

हमारे शरीर मे डीएनए कहाँ पाया जाता है?

 

इस प्रश्न का उत्तर उस जीव के प्रकार पर निर्भर कर सकता है जिसके बारे में आप बात कर रहे हैं। जैसे की हम जानते है की कोशिका यानि cell दो प्रकार के होते हैं – यूकेरियोटिक- Eukaryotic और प्रोकैरियोटिक- Prokaryotic।

हम इंसानों के लिए हमारे प्रत्येक सेल में डीएनए मौजूद होते है।

यूकेरियोटिक कोशिकाएं Eukaryotic Cells

मनुष्य और कई अन्य जीवों में यूकेरियोटिक कोशिकाएं होती हैं। इसका मतलब है कि उनकी कोशिकाओं में एक झिल्ली बंध (membrane bound) नाभिक और कई अन्य झिल्ली-बंधित संरचनाएं होती हैं जिन्हें ऑर्गेन यानि अंग कहा जाता है।

यूकेरियोटिक कोशिका में, डीएनए नाभिक के भीतर होता है। डीएनए की एक छोटी मात्रा माइटोकॉन्ड्रिया नामक अंग भी जीवों में पाई जाती है, जो कोशिका के पावरहाउस यानि ऊर्जा स्त्रोत हैं।

क्योंकि नाभिक के भीतर सीमित स्थान है, डीएनए को कसकर पैक किया हुआ होता है। पैकेजिंग के कई अलग-अलग चरण हैं, हालांकि अंतिम उत्पाद संरचनाएं हैं जिन्हें हम गुणसूत्र कहते हैं।

प्रोकैरियोटिक कोशिकाएँ

बैक्टीरिया जैसे जीव प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं हैं। इन कोशिकाओं में नाभिक या ऑर्गेनेल नहीं होते हैं। प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं में, डीएनए को कोशिका के बीच में कसकर कुंडलित पाया जाता है।

क्या होता है जब कोशिकाएं विभाजित होती हैं?

हमारे शरीर की कोशिकाएं विकास के एक सामान्य हिस्से के रूप में विभाजित होती हैं। जब ऐसा होता है, तो प्रत्येक नए सेल में डीएनए की पूरी प्रतिलिपि होनी चाहिए।

इसे प्राप्त करने के लिए, हमारे डीएनए को प्रतिकृति नामक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। जब ऐसा होता है, तो दो डीएनए किस्में अलग हो जाती हैं। फिर, विशेष सेलुलर प्रोटीन एक नए डीएनए स्ट्रैंड बनाने के लिए टेम्पलेट के रूप में प्रत्येक स्ट्रैंड का उपयोग करते हैं।

जब प्रतिकृति पूरी हो जाती है, तो दो दोहरे बंध वाले डीएनए अणु होते हैं। विभाजन पूरा होने पर एक सेट प्रत्येक नए सेल में जाएगा।

 

DNA के कार्य Functions of DNA in Hindi

 

DNA के मुख्य 3 कार्य होते है|

Replication 

Replication मतलब नक़ल करना है जिसमें एक DNA अपना जैसा ही दूसरा DNA का निर्माण करता है|
Replication एक ऐसी प्रक्रिया है जहां DNA की प्रत्येक प्रत्येक श्रृंखला में मूल डीएनए डबल शृखंला का आधा हिस्सा होता है।
इसी कारण ही शरीर में chromosome की संख्या नियंत्रित रहती है| इसके साथ-साथ Replication शरीर में कोष विभाजन को भी प्रेरित करता है|

 

Transcription 

DNA का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कार्य है Transcription| Transcription के जरिए DNA हमारे शरीर में मौजूद RNA का निर्माण करता है|

Genetic Information का परिवहन 

DNA का मूल कार्य हमारे शरीर में ठीक रूप से गुण-सूत्र ( gene ) के जरिए गुणों का एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी परिवहन करना है|

मनुष्य के शरीर के विकास के लिए, सही तरीके से काम करने में और प्रजनन के लिए DNA का एक बहुत ही महत्वपूर्ण है|

 

 

DNA और उम्र Age and DNA in Hindi

 

यह माना जाता है कि क्षति ग्रस्त DNA की संख्या बढ़ जाने के कारण हमारी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में मदद मिलती है।

उम्र बढ़ने से जुड़े डीएनए की क्षति में कुछ ऐसी भूमिका हो सकती है जो मुक्त कणों (free radicals) के कारण होने वाली क्षति है। हालांकि, उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को समझाने के लिए क्षति का यह एक प्रक्रिया पर्याप्त नहीं हो सकती। कई कारक भी शामिल हो सकते हैं।

एक सिद्धांत (theory ) ऐसा है की डीएनए की क्षति का प्रमाण हमारी उम्र के विकास के आधारित है। यह माना जाता है कि जब हम प्रजनन आयु अवस्था मे होते होते हैं तो डीएनए क्षति की मरम्मत अधिक सटीकता से की जाती है। जब हमने अपने आधी उम्र को पार कर लेते है, तो मरम्मत की प्रक्रिया स्वाभाविक रूप से कम हो जाती है।

डीएनए का एक और हिस्सा जो उम्र बढ़ने में शामिल हो सकता है जिसको टेलोमर (telomer ) कहा जाता हैं। टेलोमेरेस दोहराए जाने वाले डीएनए अनुक्रमों के खंड हैं जो हमारे गुणसूत्रों यानि chromosomes के सिरों पर पाए जाते हैं। वे डीएनए को क्षति से बचाने में मदद करते हैं, लेकिन वे डीएनए प्रतिकृति के प्रत्येक दौर के साथ कम हो जाते हैं।

टेलोमेयर छोटा होना उम्र बढ़ने की प्रक्रिया से जुड़ा है। यह भी पाया गया है कि कुछ जीवनशैली कारक जैसे मोटापा, सिगरेट के धुएं के संपर्क में आना और मनोवैज्ञानिक तनाव को कम करने में योगदान कर सकते हैं।

शायद स्वस्थ जीवनशैली का चुनाव करना जैसे कि एक स्वस्थ वजन बनाए रखना, तनाव का प्रबंधन करना, और धूम्रपान न करना टेलोमेयर को धीमा कर सकता है?
यह सवाल शोधकर्ताओं के लिए काफी रुचि रखता है।

 

 

स्वास्थ्य, बीमारी और उम्र बढ़ने में DNA की भूमिका

 

डीएनए के पूर्ण सेट को जीनोम(Genome) कहा जाता है। इसमें 3 बिलियन बेस, 20,000 जीन और 23 जोड़े गुणसूत्र यानि chromosomes होते हैं!

हम अपने डीएनए का आधा हिस्सा अपने पिता से और आधा अपनी माँ से प्राप्त करते हैं। यह डीएनए क्रमशः शुक्राणु (Sperm) और अंडे (Egg) से आता है।

जीन (Gene) वास्तव में हमारे जीनोम से बहुत कम बनाते हैं – केवल 1 प्रतिशत। अन्य 99 प्रतिशत कब, कैसे, और किस मात्रा में प्रोटीन का उत्पादन करते हैं जैसी चीजों को विनियमित करने में मदद करता है।

वैज्ञानिक अभी भी इस “गैर-कोडिंग” डीएनए के बारे में अधिक से अधिक सीख रहे हैं।

 

डीएनए की क्षति और उत्परिवर्तन(mutation)

 

 

डीएनए कोड को नुकसान होने का खतरा रहता है। वास्तव में, यह अनुमान लगाया गया कि हमारी प्रत्येक कोशिका में हर दिन दस प्रति हज़ार डीएनए क्षति की घटनाएँ होती हैं। डीएनए प्रतिकृति, मुक्त कणों और यूवी विकिरण के संपर्क में त्रुटियों जैसी चीजों के कारण नुकसान हो सकता है।

हालांकि हमारी कोशिकाओं में विशेष प्रोटीन होते हैं जो डीएनए क्षति के कई मामलों का पता लगाने और उनकी मरम्मत करने में सक्षम होते हैं। वास्तव में, कम से कम पांच प्रमुख डीएनए मरम्मत मार्ग हैं।

डीएनए अनुक्रम में उत्परिवर्तन के कारण परिवर्तन आ सकता है। जिसके कारण वे कभी-कभी खराब हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि डीएनए कोड में बदलाव से प्रोटीन बनाने के तरीके पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

यदि प्रोटीन ठीक से काम नहीं करता है, तो बीमारी का परिणाम हो सकता है। एकल जीन में उत्परिवर्तन के कारण होने वाले रोगों के कुछ उदाहरणों में सिस्टिक फाइब्रोसिस और सिकल सेल एनीमिया शामिल हैं।

म्यूटेशन से कैंसर का विकास भी हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि सेलुलर विकास में शामिल प्रोटीनों के लिए जीन कोडिंग उत्परिवर्तित होते हैं, तो ऐसी कोशिकाएं विकसित हो सकती हैं जो नियंत्रण से बाहर हो सकती हैं। कुछ कैंसर पैदा करने वाले उत्परिवर्तन विरासत में मिल सकते हैं, जबकि अन्य को यूवी विकिरण, रसायन या सिगरेट के धुएं जैसे कार्सिनोजेन्स के संपर्क के माध्यम से हो सकता सकता है।

लेकिन सभी म्यूटेशन खराब नहीं होते हैं। पृथ्वी पर मानव सहित अन्य प्रजाति मे म्युटेशन की घटना अविरत चालू है । कुछ हानिरहित हैं जबकि अन्य एक प्रजाति के रूप में हमारी विविधता में योगदान करते हैं।

1 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या में होने वाले परिवर्तन को बहुरूपता कहा जाता है। कुछ बहुरूपताओं के उदाहरण बाल और आंखों का रंग है।

 

 

सारांश  DNA in Hindi

 

डीएनए हमारे विकास, प्रजनन और स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसमें हमारे कोशिकाओं को प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए आवश्यक निर्देश होते हैं जो हमारे शरीर में कई विभिन्न प्रक्रियाओं और कार्यों को प्रभावित करते हैं।

क्योंकि डीएनए इतना महत्वपूर्ण है, क्षति या उत्परिवर्तन कभी-कभी रोग के विकास में योगदान कर सकते हैं। हालाँकि, यह भी याद रखना महत्वपूर्ण है कि म्यूटेशन फायदेमंद हो सकता है और हमारी विविधता में भी योगदान दे सकता है।

अधिक जानकारी – डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल – विकिपेडिया 

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.

One Reply to “DNA क्या है ? संरचना एवं कार्य What is DNA in Hindi Structure and Functions

Leave a Reply