Skip to content
Home » Ayurved » Natural Care » Page 9

Natural Care

Holy Basil in Hindi

औषधियो की रानी तुलसी के अदभुत गुण – Health benefits of Holy Basil in Hindi

तुलसी को आमतौर पर पूरक रूप में या तुलसी चाय के रूप में सेवन किया जाता है। यह चिंता,
अधिवृक्क थकान,
हाइपोथायरायडिज्म,
असंतुलित रक्त शर्करा
और मुँहासे
के लिए एक घरेलू उपचार के रूप में प्राकृतिक उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है।

आधुनिक चिकित्सा में, पिछले कुछ दशकों में, कई भारतीय वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने

प्रतिरक्षा प्रणाली,
प्रजनन प्रणाली,
केंद्रीय तंत्रिका प्रणाली,
 हृदय प्रणाली,
 गैस्ट्रिक प्रणाली, मूत्र प्रणाली
 और रक्त जैव रसायन पर तुलसी के पौधे के विभिन्न भागों के औषधीय प्रभावों का अध्ययन किया है। ।

5 किडनी स्टोन सफाई पेय – Kidney Stone Removal Home Remedy in Hindi

किडनी की पथरी क्या हैं? – What is Kidney Stone in Hindi किडनी की पथरी, क्रिस्टल से बने ठोस द्रव्यमान हैं। किडनी की पथरी आमतौर… Read More »5 किडनी स्टोन सफाई पेय – Kidney Stone Removal Home Remedy in Hindi

प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स जो बैक्टीरिया को मारते हैं Natural Antibiotics in Hindi

                                                       आज के विपरीत, अतीत में लोगों को प्राकृतिक उपचार और एंटीबायोटिक्स प्रदान करने के लिए हमैं कुदरत पर निर्भर रहना पड़ता था।  मानव जीवन को इतना उंचाइ तक बढ़ाने के लीए हम आधुनिक चिकित्सा का बहोत ऋणी हैं, फिर भी प्राकृतिक उपचार के लिए एक जगह है।
आज कल बढ़ती हुई एंटी बायोटिक रेजिस्टेंस ने हमे फिर से प्राकृतिक इलाज करवाने के लिए मजदूर कर दिया है।
कहि बार जब जब हमारी आधुनिक चिकित्सा पद्धति हमारी बीमारी को ठीक करने में फ़ैल होती है तब हमे फिर से प्राकृतिक चिकित्सा ही अपनाती पड़ती है
ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हे कुछ कुदरती एंटी बिओटिक्स जो की हमारी आज की मॉडर्न एंटी बायोटिक के  विकल्प है जो हमारे पूर्वजो आज से सदीओ पहले उनका प्रयोग करते आये हे
जैसा कि विज्ञान दिखाता है कि 10 में 4 लोग
मोडर्न मेडीसीन के साइड इफेक्ट्स का अनुभव करते हैं जो पारंपरिक एंटीबायोटिक्स लेने के बाद पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचाते हैं, यह कोई आश्चर्य नहीं है कि इन दिनों प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स एक ट्रेंन्ड बनी  हैं।

घर पर तैयार क्लींजर से करें चेहरे की सफाई – Homemade Cleanser in Hindi

चेहरा साफ़ करने के लिए उसे धोना ही काफी नहीं है बल्कि गहराई से सफ़ाई भी ज़रूरी है। इस तरह सफ़ाई न होने के कारण त्वचा पर मुंहासे, ब्लैक हैड्स होने के साथ ही त्वचा बेजान और रूखी भी नज़र आती है। त्वचा को दाग़-धब्बे रहित व चमकदार बनाए रखने के लिए घरेलू क्लींज़र अच्छा ज़रिया हैं। ये त्वचा को साफ़ करने के साथ ही निखरा और मुलायम बनाते हैं।

सर्दियों में अस्थमा मरीज के लिए डाइट – Asthma Patient Diet in Hindi

सर्दी का मौसम जहां स्वस्थ लोगों के लिए सौगात बनकर आता है तो वहीं अस्थमा के रोगियों के लिए परेशानी का सबब भी रहता है। अस्थमा रोगियों के लिए खासकर चढ़ती और उतरती सर्दी ज्यादा घातक होती है, क्योंकि इस दौरान मौसम में तेजी से बदलाव होता है। इससे उनमें सांस चलने की समस्या काफी बढ़ जाती है। अब जबकि मकर संक्रांति के बाद सूरज अपनी दिशा बदलेगा तो बदलते मौसम में अस्थमा रोगियों को कुछ ज्यादा सतर्कता रखनी होगी। घर के बाहर निकलने पर इन्हें अपने मुंह और नाक को मास्क या कपड़े से कवर करके रखना होगा। इसके अलावा डाइट में कुछ चीजों को शामिल करने से भी अस्थमा के मरीजों को थोड़ी सहूलियत हो सकती है। एसे मे हम आपको बताने जा रहे हे तीन असरदार तरीके…