Waterborne disease in Hindi – जल जन्य रोग : लक्षण एवं रोकथाम

Waterborne disease in Hindi

प्रस्तावना – Facts about Waterborne disease in Hindi

संक्रामक बीमारियां संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में विभिन्न मार्गों द्वारा फैलती हैं ।
दूषित जल से जल जनित रोग (Waterborne disease in Hindi) फैलते हैं यह जल मानव द्वारा
या पशु मल (भोजन और बर्तन सहित), जो मल से धोया गया है
दूषित पानी और गंदे हाथ के जरिये पानी मे मिल जाते है और वह दूषित जल का पेय के रूप मे इस्तेमाल करने से संक्रमण फैलता है । इन रोगों को faeco-orally (मल और मौखिक )से भी जाना जाता है

संचारित रोग

अन्य बीमारियां हैं, जो पानी से संबंधित हो सकती हैं लेकिन नहीं
faeco-oral मार्ग द्वारा नहीं फैलती उदाहरण –  मलेरिया, लेप्टोस्पायरोसिस आदि।
जल खराब स्वास्थ्य आदतें और सेनेटरी स्थितियों के आभाव के कारण दूषित हो जाता है।
पानी से गुजरते समय, पानी की आपूर्ति के स्रोत में संदूषण हो सकता है
पाइप, जो टूट गए हैं, या घरों में जब पानी ठीक से संग्रहीत नहीं किया जाता है। जो बहोत सारे
प्रभावित लोगों का स्थान संदूषण के स्थान पर निर्भर करेगा।
पानी से होने वाली बीमारियों का खतरा निम्न क्षेत्रों में अधिक है:
अपर्याप्त पानी की आपूर्ति
पानी और सीवेज पाइपलाइनों की खराब गुणवत्ता
खराब सेनेटरी की स्थिति
पीने के पानी के स्रोतों के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले कुओं और खुले कुओं

विशेष रूप से पीने के पानी के स्रोतों के पास खुले में शौच

मानव कचरे के निपटान के लिए अयोग्य प्रणाली
अगर दूषित पानी को धोने के लिए इस्तेमाल किया जाए तो जल जनित रोग भी हो सकते हैं
बर्तन, फल ​​और सब्जियां, खासकर अगर ये कच्चे खाए जाएं।
पानी से पैदा होने वाली बीमारिया
अविश्वसनीय स्रोतों से पानी से तैयार बर्फ के माध्यम से भी जल जनित रोग फ़ैल सकता है।

जबकि जल जनित (Waterborne Disease in Hindi) रोगों के मामले पूरे वर्ष में हो सकते हैं, लेकिन ज्यादातर
गर्मियों मे , बारिश के समय और बारिश के बाद की अवधि में ज्यादा पायी जाती है।
भारी बारिश के बाद जल-जनित और जल संबंधी बीमारियों का बहोत ज्यादा बढ़ प्रकोप बढ़ जाता है।

संक्रमण के सामान्य स्त्रोत 
पानी

  • दूषित पानी का स्त्रोत्र
  • सप्लाइ के दौरान दूषित होना
  • दूषित पानी की बर्फ का इस्तेमाल करना
खुराक

  • खाना बनाने के दौरान दूषित होना
  • दूषित पानी से फल या सब्जी को धोना
  • दूषित पानी के स्त्रोत से फल या सब्जी की खेती करना

जल जनित रोग के कारण 

वाइरल

  • हेपेटाइटिस ए
  • हेपेटाइटिस ई
  • रोटा वाइरस

बकटेरियल

  • टाइफ़ाइड
  • पेरा टाइफ़ाइड
  • बेसिलरी डिसेंट्री
  • कोलेरा

प्रोटोजुवल

  • अमीबियासिस
  • जियार्डियासिस

कृमि

  • राउंड वर्म
  • थ्रेड वर्म
  • हिएडिट

लेप्टोस्पाइरोसिस

  • वेल्स डिसिज

साइक्लोप्स

  • गिनी वर्म

जल जनित बीमारियों का समाज पर असर Effects on community of Waterborne disease in Hindi 

आम तौर पर यह बडी महामारी(Epidemics) के कारण होते है ।
बड़ी संख्या में मामलों और मौतों के कारण बीमारियों की रोकथाम कठिन हो जाती है ,
विशेष रूप से छोटे बच्चों में।

कई राज्यों और जिलों में जल जनित रोग (Waterborne Disease in Hindi) प्रमुख समस्या बन जाती हैं
कई राज्यों मे यह बच्चों की अस्पताल मे भरती का प्रमुख कारण बन जाती है ।

हेपेटाइटिस जैसी कुछ वायरल बीमारियों के लिए कोई विशिष्ट उपचार उपलब्ध नहीं है

अयोग्य और अधूरी सारवार के कारण एंटीबायोटिक दवाई की resistance(प्रतिरोध) बढ़ जाता है ।

समुदाय और नकारात्मक मीडिया कवरेज में दहशत पैदा करने के लिए जिम्मेदार है ।

 

1. युवा बच्चों में दस्त

दस्त दिन में तीन बार से अधिक ढीले या पानी के मल का निष्काशन है।
हालांकि, यह मल की स्थिरता और चरित्र में हालिया बदलाव है जो अधिक है
संख्या से अधिक महत्वपूर्ण है।
हालांकि स्तनपान के बाद थोड़ा नरम मल का पारित होना एक सामान्य बाबत है ।
डायरिया को परीक्षणों के आधार पर 3 वर्ग मे वर्गीकृत किया जाता है

जलयुक्त दस्त
(बहुसंख्यक) ,
पेचिश (मल में रक्त) और
लगातार होने वाला दस्त।
यह वर्गीकरण अस्पतालों मे सारवार और प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण है

जलयुक्त दस्त

जल युक्त दस्त अचानक से शुरू होता है मल एकदम पानी जैसा होता है । जलयुक्त डायरिया के मरीज तीन से सात दिनों में ठीक हो जाते हैं।
जलयुक्त दस्त कोलेरा के कारण भी हो सकता है

सभी दस्त के मामलों के तीन-चौथाई से अधिक पानी वाले दस्त हैं।

लगातार होने वाला दस्त ।
अगर दस्त हो 14 दिनों से अधिक समय तक बने रहते है और वजन घटाने से जुड़ी होती है, इसे इस प्रकार वर्गीकृत किया जाता है

यह दस्त असंक्रामक कारण जैसे कि ग्लूटेन या विरासत में मिले चयापचय विकारों के प्रति संवेदनशीलता के कारण भी हो सकता है

खूनयुक्त मल

यह प्रकार के दस्त मे मल मे खून होता है ज्यादातर मामलो मे अमीबिक संक्रमण से होतें है

पांच साल से कम उम्र के बच्चों में डायरिया के रोग आम हैं और उनमें से इस आयु वर्ग के बच्चों में मौतों का प्रमुख कारण माना जाता है ।
दस्त हर चार में से एक ( पाँच वर्ष से कम उम्र के )बच्चों की मृत्यु दस्त के कारण होती है।

उन जिलों में जहां दस्त का योग्य सारवार जहाँ व्यापक रूप से मौजूद नहीं है वहां बाल चिकित्सा अस्पताल में प्रवेश और रोगियों की मृत्यु का 20% दस्त से संबंधित है।

वर्तमान बाल मृत्यु दर के आधार पर अनुमान से पता चलता है कि 6,00,000 से अधिक
भारत में इन बीमारियों के कारण बच्चे प्रतिवर्ष मरते हैं।

स्त्रोत्र : ndmc.gov.in

यह भी पढ़ें

2. कोलेरा (हैजा )

हैजा एक प्रकार का पानी वाला दस्त है। 90% से अधिक मामले मे जहाँ दस्त की महामारी होती है वहां नैदानिक रूप से कोलेरा को अन्य संक्रामक दस्त से अलग कर पाना मुश्किल है ।
महामारी की स्थितियों में, हालांकि, गंभीर पानी युक्त दस्त
दस्त और उल्टी शुरुआत होती है, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी मात्रा में तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान होता है
सघन चिकित्सा की अनुपस्थिति में रोगी की स्थिति तेजी से बिगड़ सकती है
यदि उपचार में देरी या अपर्याप्त है, तो निर्जलीकरण से मृत्यु तेजी से हो सकती है
अगर 5 वर्ष से अधिक आयु के बच्चे या बड़े व्यक्ति तीव्र जलयुक्त दस्त के साथ आमतौर पर साथ में उलटी होती है
जिस से गंभीर निर्जलीकरण विकसित होता है तो हैजा होने पर संदेह होना चाहिए

भारत में हैजा एक स्थानिक बीमारी है और इस बीमारी के कई प्रकोप हो चुके है ।
क्योंकि हैजा में तीव्र प्रसार की संभावना होती है और बडी तीव्रता से महामारी का रूप ले सकता है
जिसमे सरकारी स्वास्थ्य कर्मी के साथ साथ आम जनता को स्वास्थ्य समस्या, निगरानी और शीघ्रता पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है
हैजा के सूचित मामलों पर कार्रवाई करना। यदि उचित उपाय किए जाएं,
हैजा सीमित निवास स्थान तक ही सीमित रहता है।

इसलिए, गांव, या क्षेत्र की रिपोर्टिंग और जिला प्रभावित क्षेत्र की पहचान करने में मदद करता है। हैजा में पहला संदिग्ध मामला ए
गैर-स्थानिक क्षेत्र को तुरंत स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारी को सूचित किया जाना चाहिए। प्रयोगशाला मे
पुष्टि जल्द से जल्द अवसर पर प्राप्त की जानी चाहिए और परिणाम को सूचित किया जाना चाहिए ।
कोलेरा के बैक्टीरिया विब्रियो कोलेरी के कई सेरोग्रुप हैं, लेकिन केवल सेरोग्रुप O1 और 0139-
हैजा का कारण कोलेरा होता है ।

  पेचिश

पेचिश दस्त में माल के साथ खून दिखे देता है । मरीजों को पेट में ऐंठन, बुखार और भूख न लगना और वजन घटाने की शिकायत हो सकती है । सभी मामलों मे 10 से 15% छोटे बच्चों में दस्त के लक्षण पेचिश के कारण होते हैं। शिगेला(Shigela) पेचिश का सबसे आम कारण है । एंटामोइबा हिस्टोलिटिका(Entemoeba Hystolytica) समान नैदानिक के साथ प्रस्तुत होता है लेकिन यह छोटे बच्चों में अपेक्षाकृत दुर्लभ है। पेचिश का छोटे बच्चों में बड़ी संख्या में मृत्यु का कारण बन सकता जब तक की विशिष्ट रोगाणुरोधी उपचार ढंग से शुरू नहीं किया जाता । यह महत्वपूर्ण है कि समुदाय और परिधीय स्वास्थ्य कर्मियों को मल में रक्त के खतरे के संकेत के बारे में पता हो (खूनी दस्त) ताकि तुरंत चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराई जाए।ऊष्मायन अवधि आमतौर पर 1-3 दिन है। बीमारी की गंभीरता और मृत्यु दर मेजबान के कार्य (आयु और पहले से मौजूद पोषण की स्थिति) और सीरो-प्रकार पर आधार रखती है । शिगेला पेचिश 1 अक्सर गंभीर बीमारी से जटिलताओ से जुड़ा होता है। S.Sonnei और S.Flexneri के संक्रमण के कारण छोटे लक्षणिक अवधि वाले होते हैंऔर नगण्य मृत्यु दर है ।मरीज एक्यूट स्टेज में और बीमारी के बाद एक महीने तक संक्रमण फैला सकते हैं। चूंकि संक्रमण को प्रसारित करने के लिए केवल कुछ ही बेसिली(बैक्टीरिया) पर्याप्त हैं, इसलिए शिगेला आम तौर पर एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। बिना लक्षण वाले वाहक मरीज भी संक्रामण फैला सकता है। वाहक स्टेज शायद ही कभी लंबे समय तक रहता है। उचित एंटीबायोटिक्स के साथ इलाज से संचरण की अवधि कम कर देता है।

4. टाइफाइड

यह बुखार S.typhi नामक बैक्टीरिया की संक्रमण से होता है

बुखार, अस्वस्थता, सुस्ती, स्नायु मे दर्द और भूख न लगना
टाइफाइड बुखार की विशेषता है ।
चरणबद्ध तरीके से बुखार 5 से 7 दिनों के दौरान 39 से 41 सी तक बढ़ जाता है।
टाइफाइड मे एक अत्यधिक विशिष्ट विशेषता नाड़ी है, जो अपेक्षाकृत धीमी होती है
(मंदनाड़ी)।
मानसिक उदासीनता और नीरसता आम है और प्रलाप विकसित हो सकता है।
हालांकि योग्य एंटी बायोटिक और अन्य सहायक सारवार से मरीज पूर्ण ठीक हो सकता है ।

टाइफाइड की सारवार मे चिकित्सा इतिहास, शारीरिक परीक्षण और रक्त परिक्षण होना जरुरी है।
ऊष्मायन अवधि 7 से 21 दिनों की सीमा के साथ 2 सप्ताह है।
रोग के तीव्र चरण में बेसिली को मूत्र और मल में उत्सर्जित होता है
और कुछ रोगियों में इसके बैक्टीरिया अच्छी तरह से वाहक अवस्था(Carrier Stage) में S.Typhi का उत्सर्जन जारी रख सकता है।
रोगियों के कुछ प्रतिशत क्रोनिक वाहक बन सकते हैं और सालों तक बेसिली का उत्सर्जन कर सकते हैं।

5. वायरल हीपेटाइटिस

वायरल हेपेटाइटिस ए और ई जल जनित (Waterborne Disease in Hindi) हैं; हेपेटाइटिस वायरस बी, सी, डी और संभवतः जी रक्त मार्ग से प्रेषित होते हैं और दूषित पनि के माध्यम से प्रेषित नहीं होते हैं।जबकि पूरे वर्ष महामारी के दौरान हेपेटाइटिस ई के छिटपुट मामले सामने आते हैं ।ज़्यादातर पाइप्ड जलापूर्ति के दूषित होने के परिणामस्वरूप। वायरल हैपेटाइटिस का लगभग सभी प्रकोप भारत में हेपेटाइटिस ई वायरस के कारण होता है। हेपेटाइटिस ए के कभी-कभी प्रकोप भी पैदा होता है, हो सकता है जो वो भी जल जनित है ।
हालांकि, ये अपेक्षाकृत दुर्लभ हैं, जैसे कि पांच साल की उम्र तकअधिकांश व्यक्ति प्राकृतिक संक्रमण के माध्यम से प्रतिरक्षा विकसित करते हैं। छोटे बच्चों में संक्रमण आम तौर पर हल्के होते है।
हेपेटाइटिस ई की ऊष्मायन अवधि आमतौर पर एक से दो महीने की होती है । इसलिए हेपेटाइटिस ई का प्रकोप अन्य जल जनित बीमारी से जुज़ रहे लोगों को हो सकता है छोटी ऊष्मायन अवधि जैसे कि जल युक्त दस्त रोग (कुछ दिन)और टाइफाइड बुखार (एक से तीन सप्ताह)। गर्भवती महिलाओं में मृत्यु दर बहुत अधिक है।

6 हेल्मिन्थ संक्रमण

WHO का अनुमान है कि दुनिया की एक अरब से अधिक आबादी कालानुक्रमिक हेलमिंथ से संक्रमित जिसके कारण काम करने की क्षमता और फिटनेस को घटाता है और विशेष रूप से बच्चों के मामले में उनकी पोषण स्थिति और सीखने की क्षमता कम हो जाती है।
प्रमुख मिट्टी संचारित हेलमिंथ में एस्केरिस लुम्ब्रिकोइड्स, त्रिचोरिस शामिल हैंट्राइकुरिया और एंकिलोस्टोमा ड्यूडेनल । संक्रमण अपर्याप्त स्वच्छता और पानी की आपूर्ति के साथ जुड़े हुये होते है ।एस्कारियासिस (गोल कृमि संक्रमण) आम तौर पर कुछ या अलक्षणिक के साथ जुड़ा हुआ है। जीवित कीड़े, मल में या कभी-कभी मुंह या नाक से पारित होते हैं, अक्सर यह संक्रमण का पहला प्राप्त संकेत होता है । भारी परजीवी संक्रमण पोषण कमियों, आंत्र रुकावट जैसी गंभीर जटिलताओं में शामिल है।

संक्रामण आम तौर पर माल से दूषित मिट्टी के अंतग्रहण के कारण होता है । अंडे मिट्टी में भ्रूण अवस्था से गुजरता है और 2-3 सप्ताह के बाद संक्रामक हो जाते हैं और कई महीनों या वर्षों के लिए मिट्टी में संक्रामक होते है । एक वयस्क कृमि की सामान्य अवधि 12 महीने तक की हो सकती है । मादा कृमि प्रति दिन 2 लाख अंडे का उत्पादन कर सकती है।
छोटे बच्चों में हाइपोप्रोटीनेमिया, एनीमिया और वृद्धि मंदता हो सकती है। दूषित सब्जियों के माध्यम से भी संचरण होता है।
एंकिलोस्टोमियासिस (हुक वर्म रोग) आयरन की कमी का एक प्रमुख कारण है। भारी संक्रमण वाले बच्चों में एनीमिया और हाइपोप्रोटीनेमियाहो सकता है।
लंबे समय के संक्रामण के कारण शारीरिक और मानसिक विकास में मंद हो सकता है ।

7 गिनी वर्म (GW)

यह बीमारि परजीवी ड्रैकुनकुलस मेडिनेंसिस(Dracunculus Medinensis) के कारण होती है और कुओं, तालाबों जैसे असुरक्षित स्रोतों से पानी पीने के माध्यम से फैलता है जिसमें पानी मे पिस्सू (साइक्लोप्स) शामिल हैं।
वयस्क कृमि की लंबाई 60 से 100 सेमी तक होती है और यह त्वचा के माध्यम से प्रवेश करता है, आमतौर पर पैर की त्वचा के माध्यम से , जो गंभीर सूजन और अल्सर का कारण बनता है । इस बीमारी के कारण मरीज अपने नियमित कार्य करने के लिए असमर्थ हो जाता है, जिससे रोगी को आर्थिक नुकसान भी होता है। बीमारी ग्रामीण क्षेत्रों में अपर्याप्त सुरक्षित पेयजल आपूर्ति और पानी की सिमित स्त्रोत के दौरान होता है जैसे की गर्मी का मौसम जब पानी की कमी होती है।भारत सरकार ने राष्ट्रीय गिनी वर्म उन्मूलन कार्यक्रम का 1983-84 मे शुभारंभ किया था । नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कम्यूनिकेबल डिजीज नोडल एजेंसी के रूप मे काम कर रही है, जिसे राज्य स्वास्थ्य अधिकारीओं द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। ग्रामीण मामलों और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार और राज्य लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग (ग्रामीण जल आपूर्ति) ने सक्रिय रूप से इस कार्यक्रम में भाग लिया है ।1984 से पहले 12,840 गांवों से सालाना लगभग 40,000 मामले सामने आये थे 7 राज्यों में 89 जिले। लेकिन 1996 में जोधपुर के 3 गांवों से केवल 9 मामले सामने आए थे। अंतिम मामले को जुलाई 1996 में अधिसूचित किया गया था। राजस्थान को छोड़कर सभी राज्यों में 1995 की शुरुआत से गिनी की बीमारी से मुक्त रहा। भारत मे आखरी केस जुलाई 1996 में रिपोर्ट की गई। वर्तमान में केवल अफ्रीका में देश मे रिपोर्ट की जाती है ।

रोकथाम Prevention of Waterborne disease in Hindi

समुदाय में जल जनित रोगों को रोकने और नियंत्रित करने के लिए स्वास्थ्य और अन्य विभागों और नागरिक सुविधाओं को प्रदान करने वाली एजेंसियों से एक एकीकृत प्रयास की आवश्यकता है। स्वास्थ्य विभाग तो सिर्फ
समुदाय में बीमारी का वितरण और इसका कारण पता कर सकते हैं
बीमारी का उपाय बता सकता है। दूसरी ओर, अन्य विभाग जैसे पानी
आपूर्ति विभाग, सीवरेज विभाग, प्रवर्तन विभाग,
स्वच्छता विंग और जल निकासी विभाग एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके साथ
समन्वित प्रयास जल जनित रोगों को नियंत्रण में रखा जा सकता है।
एकीकृत तरीके से की जाने वाली विभिन्न क्रियाएं इस प्रकार हैं:

खाद्य स्वच्छता Food Hygiene for Waterborne disease in Hindi

1. धूल और खुली बाजार में भोजन की खरीदी ना करें खासकर खुले फल और गन्ने के रस से बचें।
2. ऐसे खाद्य पदार्थ और फल पाए जा सकते हैं जो खाद विभाग द्वारा नष्ट किया जाना चाहिए
3. किसी भी हॉकर से फल या सब्जी ना ख़रीदे ,
विशेष रूप से वासी फल ।

4. आइस क्रीम सिर्फ अच्छी ही खरीदें और हो सके तो आइस क्रीम खाना टालें ।

स्वास्थ्य शिक्षा Health Education for Waterborne disease in Hindi

खासकर अपने बच्चों को खाना खाने के पहले योग्य तरीके से हाथ धोना शिखाये और उनका महत्त्व समजाये ।

सर्वेक्षण और निगरानी surveillance for Waterborne disease in Hindi

1. प्रशाशन द्वारा जल जनित रोगों का सर्वेक्षण और निगरानी करनी चाहिए खासकर बारिश के बाद औषधालयों के सभी प्रभारियों के पास यदि कोई ऐसा मामला आता है, तो रिपोर्ट करने के लिए निर्देशित किया गया है ।
2. नागरिकों को भी अगर कोई शंकास्पद लक्षण दिखे तो तुरंत नजदीकी प्राथमिक सारवार केंद्र मे सुचना देनी चाहिए ।

पानी की आपूर्ति

1.बारिश के बाद हो सके तो पानी उबाल कर ही पियें ।
2. गंदे तालाब और नदी का सीधा पानी पिने से बचें ।
3. क्लोरीन युक्त पानी पियें ।

कूड़ा कचरा का निकाल करें

1. घर के आसपास या सोसाइटी मे कूड़ा कचरा का योग्य निकाल करें ।
2. आसपास जहाँ पानी जमा हुआ हो उसे योग्य निकाल करें ।

शौच

1. खुले मे शौच ना करें ।
2. शौचालय के उपयोग के बाद साबुन से अच्छी तरह से हाथ धोये और अपने बचें को भी शिखाएँ ।

अगर आपको जलजनित रोगों के बारे मे ज्यादा जानकारी चाहिए या आपके मन कोई सवाल है तो कमेंट कर के जरूर बताएगा ।

और अगर आपको हमार यह पसंद आया हो तो उसके समाज उपयोगी बनाने के लिए शेर जरूर करें हमारा देश जल्द से जल्द बीमारी मुक्त देश हो सकें ।

Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.
Tags:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *