atherosclerosis in hindi
Medical Terms In Hindi Modern Day Health

एथेरोस्क्लेरोसिस :लक्षण निदान एवं रोकथाम Atherosclerosis in Hindi

एथेरोस्क्लेरोसिस क्या है? Atherosclerosis introduction in Hindi

एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis in hindi) का मतलब धमनियों का सख्त और संकुचित होना है। वसा, कोलेस्ट्रॉल, कैल्शियम और रक्त में पाए जाने वाले अन्य पदार्थों से धमनियों के दिवार के अंदर ‘प्लाक’ का निर्माण होता है। यह प्लाक धीरे धीरे बढ़ता जाता है।

यह रक्त प्रवाह को खतरे में डाल सकता है क्योंकि आपकी धमनियां अवरुद्ध हो जाती हैं।

आप इसे धमनीकाठिन्य या एथेरोस्क्लेरोटिक हृदय रोग कह सकते हैं (atherosclerosis definition hindi)। यह हृदय के दौरे, स्ट्रोक और परिधीय संवहनी रोग का सामान्य कारण है – जिसे आम हृदय रोग कहा जाता है।

 

यह भी पढ़ें

हदय रोग क्या हैं? लक्षण एवं रोकथाम  What is Heart Disease in Hindi.

एथेरोस्क्लेरोसिस को जीवन शैली बदलाव करके होने से रोका जा सकता है और इसका इलाज भी संभव है।

 

atherosclerosis in hindi meaning
अथेरोस्क्लेरोसिस मीनिंग इन हिंदी

अथेरोस्क्लेरोसिस का हिंदी मे धमनीकलाकाठिन्य (atherosclerosis in hindi language) मतलब होता है। जिसका आम भाषा मे मतलब होता है धमनियों का सिकुड़ जाना।

 

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस के प्रकार Types of atherosclerosis in Hindi

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस के प्लाक अलग अलग तरीकों से व्यवहार कर सकते हैं।

वे धमनी की दीवार में रह सकते हैं। वहां, प्लाक एक निश्चित आकार तक बढ़ती है और फिर रुक जाती है। चूंकि यह प्लाक रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध नहीं करती है, इसलिए यह कभी भी लक्षण नहीं दिखाय देते।

प्लाक रक्त प्रवाह के मार्ग में धीमी, नियंत्रित तरीके से बढ़ सकता है। समय के साथ, यह महत्वपूर्ण रुकावटों का कारण बनता है। जब यह बहुत ज्यादा बढ़ जाती है तब सीने या पैरों में दर्द होना सामान्य लक्षण है।

सबसे खराब तब होता है जब प्लाक अचानक टूट जाते हैं, जिससे रक्त धमनी के अंदर थक्का जमने लगता है। तब मस्तिष्क में, यह एक स्ट्रोक का कारण बनता है; और हृदय में हृदय का दौरा।

एथेरोस्क्लेरोसिस की प्लाक तीन मुख्य प्रकार के हृदय रोग का कारण बनते हैं:

 

 

कोरोनरी धमनी की बीमारी (coronary atherosclerosis in hindi):

 

 

हृदय की धमनियों में स्थिर प्लाक एनजाइना (सीने में दर्द) का कारण बनती हैं।

अचानक पट्टिका टूटने और थक्के के कारण हृदय की मांसपेशी मर जाती है। जिसको हृदय का दौरा कहा जाता है।

 

 

सेरेब्रोवास्कुलर रोग:

 

मस्तिष्क की धमनियों में टूटी हुई प्लाक स्थायी मस्तिष्क क्षति की संभावना के साथ स्ट्रोक का कारण बन सकती हैं। यह धमनी में अस्थायी रुकावटें भी क्षणिक इस्सेमिक हमलों (TIA) नामक स्थिति का कारण बन सकती हैं, जो स्ट्रोक के संकेत देती है।

 

परिधीय धमनी रोग:

 

जब पैरों की धमनियां संकीर्ण हो जाती हैं, तो यह खराब सर्कुलेशन को जन्म दे सकती है। इससे मरीज चलने में दर्द होता है। घाव भी जल्दी से ठीक नहीं होते ।
यदि यह बीमारी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है तो गंभीर रूप ले सकती है , जिसमे मरीज को अंग निकालने की आवश्यकता हो सकती है (विच्छेदन)।

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस के लक्षण Symptoms of atherosclerosis disease in hindi

 

जब तक धमनी पूरी तरह से बंद नहीं होती है या जब तक हृदय का दौरा या स्ट्रोक नहीं होता तब तक लक्षण नहीं हो सकते हैं। संकेत इस बात पर भी निर्भर कर सकते हैं कि कौन सी धमनी संकुचित या अवरुद्ध है।

कोरोनरी धमनियों से संबंधित लक्षणों में शामिल हैं:

  • Arrhythmia , एक असामान्य दिल की धड़कन
  • सीने, हाथ, गर्दन, या जबड़े सहित ऊपरी शरीर में दर्द या दबाव। इसे एनजाइना के रूप में जाना जाता है।
  • सांस लेने में कठिनाई

मस्तिष्क में रक्त पहुंचाने वाली धमनियों से संबंधित लक्षण शामिल हैं:

  • हाथ या पैर में सुन्नपन या कमजोरी
  • किसी से बात करने या समझने में कठिनाई
  • पक्षाघात
  • बहुत ज्यादा सरदर्द
  • एक या दोनों आँखों में देखने में परेशानी

 

हाथ, पैर और श्रोणि की धमनियों से संबंधित लक्षण शामिल हैं:

  • चलते समय पैर का दर्द
  • सुन्न होना

किडनी में रक्त पहुंचाने वाली धमनियों से संबंधित लक्षण शामिल हैं:

 

 

 

 

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

 

 

यदि आपको लगता है कि आपको एथेरोस्क्लेरोसिस है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। अपर्याप्त रक्त प्रवाह के शुरुआती लक्षणों पर भी ध्यान दें,
जैसे

  • छाती में दर्द (Angina),
  • पैर में दर्द या सुन्नता।

प्रारंभिक निदान और उपचार एथेरोस्क्लेरोसिस को बिगड़ने से रोक सकते हैं और हृदय के दौरे, स्ट्रोक या किसी अन्य मेडिकल इमरजेंसी को रोक सकते हैं।

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण Causes of atherosclerosis in Hindi

 

 

जैसे की हम जानते है धमनियां रक्त वाहिकाएं होती हैं जो पूरे शरीर में हृदय से रक्त ले जाती हैं।
वे कोशिकाओं की एक पतली परत द्वारा पंक्तिबद्ध होते हैं जिन्हें एंडोथेलियम कहा जाता है। यह धमनियों के अंदर और आकार को सुचारू रखता है, जिससे रक्त बहता रहता है।

एथेरोस्क्लेरोसिस एंडोथेलियम को नुकसान के साथ शुरू होता है। जिनके सामान्य कारणों में शामिल हैं:

जब खराब कोलेस्ट्रॉल, या एलडीएल, एक क्षतिग्रस्त एंडोथेलियम से के पास से गुजरता है, तो यह धमनी की दीवार में प्रवेश करता है। श्वेत रक्त कोशिकाएं LDL को पचाने के लिए आगे बढ़ती हैं। यह प्रक्रिया निरंतर चालू रहती है तो कोलेस्ट्रॉल और कोशिकाएं धमनी की दीवार में प्लाक बन जाती हैं।

प्लाक धमनी की दीवार पर एक उभार बनाती है। जैसे ही एथेरोस्क्लेरोसिस खराब हो जाता है, वह उभार बड़ी हो जाती है। जब यह काफी बड़ा हो जाता है, तो यह एक रुकावट पैदा कर सकता है।

यह प्रक्रिया पूरे शरीर में कहीं भी हो सकती है। यह न केवल हृदय के लिए खतरा है। लेकिन यह स्ट्रोक और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी खतरा है।

Atherosclerosis आमतौर पर तब तक लक्षणों का कारण नहीं होता है जब तक मरीज मध्यम या अधिक उम्र के नहीं होते हैं। जैसे-जैसे संकीर्णता गंभीर होती जाती है, यह रक्त प्रवाह को बंद कर सकती है और दर्द का कारण बन सकती है। यह प्लाक अचानक टूट भी सकती हैं। यह के फटने की जगह पर धमनी के अंदर थक्का जमने का कारण भी बनता है।

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस जोखिम कारक Risk Factors of atherosclerosis in Hindi

 

एक 40 साल के स्वस्थ इंसान को आम तौर पर अपने जीवनकाल में गंभीर एथेरोस्क्लेरोसिस होने की लगभग 50% संभावना है।
जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है जोखिम बढ़ता जाता है।
60 से अधिक उम्र के अधिकांश वयस्कों में कुछ ना कुछ एथेरोस्क्लेरोसिस होते ही हैं, लेकिन अधिकांश में ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं होते हैं।

  • मोटापा खास करके पेट का मोटापा
  • मधुमेह
  • शराब का उच्च मात्रा सेवन (महिलाओं के लिए एक से अधिक पेय, पुरुषों के लिए एक या दो पेय, प्रति दिन)
  • उच्च रक्तचाप
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • फल और सब्जियां नहीं खाना
  • नियमित रूप से व्यायाम न करना
  • धूम्रपान
  • तनाव

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस का निदान Diagnosis of atherosclerosis in Hindi

 

 

 

डॉक्टर एक शारीरिक तपास से शुरुआत करेगा। वे स्टेथोस्कोप के माध्यम से धमनियों के धबकार को सुनेंगे और कमजोर या अनुपस्थित धबकार यानि पल्स की जांच करेंगे।

इसके बाद परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें शामिल हैं:

एंजियोग्राम:  जिसमें डॉक्टर धमनियों में डाई डालता है, ताकि वे एक्स-रे पर दिखाई दें।

एंकल-ब्रेचियल इंडेक्स: जिसमे निचले पैर और बांह में रक्तचाप की तुलना करने के लिए एक परीक्षण किया जाता है

रक्त परीक्षण: उच्च कोलेस्ट्रॉल या रक्त शर्करा जैसे एथेरोस्क्लेरोसिस होने के जोखिम को बढ़ाने वाली चीजों की तलाश करने के लिए

चेस्ट एक्स-रे:हृदय की विफलता के संकेतों की जांच के लिए

सीटी स्कैन या MRI: कठोर या संकुचित धमनियों को देखने के लिए

ECG: हृदय की विद्युत गतिविधि का एक रिकॉर्ड

स्ट्रेच टेस्ट: जिसमें मरीज की व्यायाम करने के बाद हृदय गति, रक्तचाप और श्वास को देखा जाता है

यह भी पढ़ें

5 हृदय रोग परीक्षण जो आपके जीवन को बचा सकते हैं  Heart Test in Hindi

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस का उपचार Treatment of atherosclerosis in Hindi

 

 

एक बार जब मरीज को धमनी मे रक्त प्रवाह की रुकावट होती है, तो यह आम तौर सदा के लिए रहती है। लेकिन दवा और जीवनशैली में बदलाव करके हम प्लाक(plaque) को बड़ा होने की गति को धीमा या रोक सकते हैं। या उपचार के साथ थोड़ा सिकुड़ भी सकता हैं।

जीवनशैली में बदलाव:
जोखिम कारकों का ध्यान रखकर एथेरोस्क्लेरोसिस को धीमा या रोक सकते हैं। इसका मतलब है कि एक स्वस्थ आहार, व्यायाम और धूम्रपान न करना। ये परिवर्तन रुकावटों को दूर नहीं कर सकते, लेकिन वे हृदय के दौरे और स्ट्रोक के जोखिम को कम करने के लिए काफ़ी फायदेमंद है।

एथेरोस्क्लेरोसिस की दवा Medicine for atherosclerosis in Hindi:
उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप के लिए इस्तेमाल कीए जानी वाली दवाएं से एथेरोस्क्लेरोसिस की गति धीमी हो जाएंगी और एथेरोस्क्लेरोसिस को रोक सकती हैं। वे हृदय के दौरे और स्ट्रोक के जोखिम को कम कर सकते हैं।

हालांकि डॉक्टर एथेरोस्क्लेरोसिस से रुकावटों को दूर करने के लिए इनवेसिव तकनीकों का उपयोग किया जाता है :

एंजियोग्राफी और स्टेंटिंग:
डॉक्टर क्षतिग्रस्त धमनियों तक पहुँचने के लिए एक पतली ट्यूब को पैर या हाथ की धमनी में डालता है।
रुकावटें एक लाइव एक्स-रे स्क्रीन पर दिखाई देती हैं। एंजियोप्लास्टी (एक बलून टिप के साथ कैथेटर ) और स्टेंटिंग अक्सर एक अवरुद्ध धमनी खोल सकते हैं। स्टेंटिंग लक्षणों को कम करने में मदद करता है, लेकिन यह हृदय के दौरे को नहीं रोकता है।

बाईपास सर्जरी:
डॉक्टर आपके पैर या छाती से अक्सर एक स्वस्थ रक्त वाहिका का उपयोग एक अवरुद्ध होने वाली धमनी पर करता है।

Endarterectomy:

पट्टिका को हटाने और रक्त के प्रवाह को नियमित करने के लिए डॉक्टर आपकी गर्दन की धमनियों में से कैथेटर ले जाता है।

फाइब्रिनोलिटिक थेरेपी:

एक दवा रक्त के थक्के को तोड़ देती है जो धमनी को अवरुद्ध कर रही है।
इन प्रक्रियाओं में जटिलताएं हो सकती हैं। वे आमतौर पर प्रमुख लक्षणों वाले लोगों पर किया जाता है।

 

 

 

एथेरोस्क्लेरोसिस के उपचार और रोकथाम में कौन सी जीवनशैली में परिवर्तन मदद करता है?

 

 

 

कई जीवनशैली में बदलाव करने से एथेरोस्क्लेरोसिस को रोकने में मदद मिल सकती है, खासकर टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के लिए।

उपयोगी जीवनशैली में बदलाव शामिल हैं:

 

 

  • स्वस्थ आहार खाने से संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल कम होता है
  • वसायुक्त भोजन से परहेज
  • प्रति सप्ताह दो बार अपने आहार में मछली को शामिल करें
  • प्रत्येक सप्ताह कम से कम 75 मिनट का जोरदार व्यायाम या 150 मिनट का मध्यम
  • व्यायाम करना
  • धूम्रपान न करें
  • अधिक वजन या मोटे होने पर वजन कम करना
  • मानसिक तनाव को कम करना
  • उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मधुमेह जैसे एथेरोस्क्लेरोसिस से जुड़ी स्थितियों का इलाज करना
Don't miss out!
Subscribe To Newsletter
आरोग्य विषयक जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें
Invalid email address
Give it a try. You can unsubscribe at any time.

Leave a Reply