गिलोय : स्वास्थ्य लाभ एवं उपयोग Giloy in Hindi

  • Post comments:0 Comments
Table Of Contents hide

प्रस्तावना What is Giloy in Hindi

 

गिलोय (Giloy in Hindi)  का आयुर्वेद ग्रंथो मे बहुत ही प्रभावी औषधि के रूप में प्रलेखित है। वैज्ञानिक अध्ययन इस औषधीय जड़ी-बूटी के लाभकारी गुणों का मूल्यांकन और पुष्टि भी करते हैं, जैसे इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, हेपेटोप्रोटेक्टिव, कार्डियोप्रोटेक्टिव, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एनाल्जेसिक प्रभाव, एक रसायण (कायाकल्पकर्ता) और एक प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में गिलोय के आयुर्वेदिक दृश्य की पुष्टि करता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा में, गिलोय (Giloy in Hindi ) को तीन अमृत पौधों में से एक माना जाता है (दूसरे दो लहसुन एवं हरिताकी )। इस पर्वतारोही लता के गुण को देखते हुए संस्कृत में इसे “अमृतावली ” नाम दिया गया है।

इन गुणों के कारण अन्य जड़ी-बूटियों के साथ सही मात्रा में सेवन करने पर गिलोय प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करती है।

भारतीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय हल्के लक्षण वाले COVID19 के प्रबंधन के लिए गिलोय घन वटी के सेवन की सिफारिश करता है।

 

गिलोय मे पाए जाने वाले फाइटोकेमिकल्स

 

गिलोय में विभिन्न फाइटोकेमिकल्स(वनस्पति मे पाए जाने वाले केमिकल) होते हैं, जिनमें अल्कलॉइड, फाइटोस्टेरोल, ग्लाइकोसाइड्स और मिश्रित अन्य रासायनिक यौगिक शामिल हैं।

गिलोय से कोलिन, टिनोसोपरसाइड, जटरोस्ज़ाइन, पैलमेटाइन, बेर्बेरिन, टेंबोमीटरिन, टिनोसोर्डिफ़ोलिओसाइड, फेनिलप्रोपीन डिसाकाराइड्स, टिनोसोर्पिक एसिड, टिनोसोपरल, टिनोसोपरोन और टिनोसोस्पेराइड को अलग किया गया है।

गिलोय के फायदे Benefits of Giloy in Hindi

 

गिलोय एक उत्कृष्ट एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी है, जिसका अर्थ है कि यह आपके शारीरिक कार्यों को सामान्य करके तनाव और चिंता को प्रबंधित करने में मदद करता है। इसका शरीर पर शांत प्रभाव पड़ता है। रक्त मस्तिष्क बाधा (blood brain barrier) को पार करने की अपनी क्षमता के कारण, गिलोय में स्मृति और संज्ञानात्मक कार्यों को बढ़ाने की शक्ति है।

गिलोय शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है, रक्त को शुद्ध करता है और बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने मे मदद करता है। यह लीवर की बीमारी वाले लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है।
यह प्रकृति में ज्वरनाशक है, जिसका अर्थ है कि यह बुखार को कम कर सकता है और डेंगू, स्वाइन फ्लू और मलेरिया जैसे जानलेवा बुखार के लक्षणों को कम कर सकता है।

 

प्रतिरक्षा को बढ़ावा देता है Immunity Booster Giloy in Hindi

 

गिलोय के औषधिय गुण लंबी उम्र के लिए पहचाना जाता है, याददाश्त को बढ़ाता है, स्वास्थ्य में सुधार करता है और युवाओं को श्रेष्ठ बनाता है। यह जड़ी बूटी, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करती है, प्रतिरक्षा को बढ़ाती है और किसी व्यक्ति में जीवन शक्ति को बढ़ावा देती है।

उपयोग कैसे करें

गिलोय चूर्ण 1/ 2 चम्मच लें
1 चम्मच शहद जोड़ें।
दोपहर और रात के खाने के बाद इसे लें।

यह भी पढ़ें

प्रतिरक्षा प्रणाली क्या है? कैसे काम करती है? What is Immunity System in Hindi

गिलोय एक प्राकृतिक detoxifer है

 

गिलोय एक detoxifier के रूप में काम करता है और त्वचा के रंग और चमक में सुधार करता है। त्वचा रोगों से पीड़ित लोग अक्सर प्रभावित क्षेत्रों पर गिलोय के पौधे का तेल लगाते हैं। यह स्किन लोशन के रूप में भी लोकप्रिय है, इस तथ्य पर विचार करते हुए कि यह त्वचा के रंग में सुधार करता है और त्वचा के सामान्य स्वास्थ्य को बढ़ाता है।

यह भी पढ़ें

आपके लिवर को डेटॉक्स करने के 12 तरीके Liver Cleanse in Hindi

बुखार को कम करता है Anti pyretic Property of Giloy in Hindi

 

 

गिलोय शरीर के तापमान को कम करके उच्च बुखार को नियंत्रण में लाने में मदद करती है। आंतरायिक बुखार (Intermittent fever) से निपटने मे यह बहुत प्रभावी है।

यह मैक्रोफेज (शरीर के बाहर के तत्वों के साथ-साथ सूक्ष्मजीवों से लड़ने वाली कोशिकाओं) की गतिविधि को बढ़ाता है और इस तरह जल्दी ठीक होने में मदद करता है।

उपयोग कैसे करें
गिलोय का रस 2-3 चम्मच लें।
इसमें उतनी ही मात्रा में पानी मिलाएं और सुबह खाली पेट इसे दिन में एक बार पिएं।

बुखार क्या है? :बुखार के प्राकृतिक उपचार- Home Remedy for Fever in Hindi

श्वसन तंत्र के लिए फायदेमंद 

 

पारंपरिक रूप से ब्रोंकाइटिस और पुरानी खांसी जैसी बीमारियों के इलाज के लिए गिलोय को प्राथमिकता दी जाती है। यह श्वसन तंत्र के म्यूकस मेम्बरेन को शांत करता है जिससे यह अस्थमा के खिलाफ बहुत प्रभावी है।

 

पाचनतंत्र को मजबूत बनाता है Digestive benefits of Giloy in Hindi

 

गिलोय एक मजबूत पाचन तंत्र के निर्माण की दिशा में काम करती है और शरीर को हाइपरएसिडिटी, कोलाइटिस, कृमि के संक्रमण और भूख न लगना, पेट में दर्द, अत्यधिक प्यास, और उल्टी के खिलाफ शरीर को विसर्जित करती है।

यह भी पढ़ें

पाचन में सुधार के लिए 5 योग आसन 5 Yoga For Improve Digestion In Hindi

लिवर रोग के लिए फायदेमंद 

 

गिलोय मे लीवर को डिटॉक्स करने और उचित कार्य करने में मदद करने की क्षमता होती है। यह फैटी लिवर के लिए एक उपाय के रूप में भी कार्य कर सकता है। गिलोय का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह क्षतिग्रस्त हो चुके लिवर सेल के उत्थान को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है।

उपयोग कैसे करें

गिलोय का रस 2-3 चम्मच लें।
इसमें उतनी ही मात्रा में पानी मिलाएं और इसे सुबह खाली पेट पीएं।

 

 

एंटी एजिंग गुण Anti Aging Property of Giloy in Hindi

गिलोय में कई एंटी एजिंग गुण होते है जो झुर्रियों, काले धब्बों, महीन रेखाओं और पिंपल्स को कम करने में मदद करता है जिससे त्वचा में निखार आता है।

यह भी पढ़ें

घर बैठे बनाये लोबान एंटी एजिंग क्रीम  Homemade Anti Aging Cream in Hindi

एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण Anti Inflammatory Property of Giloy in Hindi

 

गिलोय अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है जो गठिया जैसे इन्फ्लामेट्री स्थितियों से निपटने के दौरान राहत प्रदान करता है। कई अध्ययन ने गठिया के मरीजों में दर्द को काफी कम करने के लिए दिखाया है।

दूध के साथ उबालने पर गिलोय जोड़ों के दर्द के लिए आश्चर्य का काम करती है।

यह भी पढ़ें

Inflammation in Hindi  सूजन क्या है ? लक्षण एवं उपचार

यौन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

 

गिलोय को इसके कामोत्तेजक लाभों के लिए आयुर्वेद में जाना जाता है। यह नपुंसकता और अनैच्छिक स्खलन जैसे विभिन्न यौन स्वास्थ्य मुद्दों से प्रभावी ढंग से निपट सकता है।

 

दृष्टि में सुधार करता है

 

गिलोय दृष्टि की स्पष्टता को बढ़ाने में मदद कर सकता है। अपनी आंखों की रोशनी के लिए गिलोय के फायदे पाने के लिए गिलोय के पाउडर या पत्तों को पानी में उबालें। एक बार जब यह ठंडा हो जाए तो इसे आंखों की पलकों पर लगाएं।

 

 

गिलोय के साइड इफेक्ट्स Side effects of Giloy in Hindi

 

 

गिलोय का सेवन करने के बाद प्रमुख दुष्प्रभाव रिपोर्ट नहीं दर्ज हुआ है। कमजोर पाचन तंत्र वाले लोग लंबे समय तक गिलोय के उपयोग के बाद कब्ज का अनुभव कर सकते हैं।

 

 

गिलोय की सावधानी Precautions of Giloy in Hindi

 

गिलोय एक इम्युनिटी बूस्टर है इसलिए अगर आप इम्युनिटी से प्रभावित रोग से पीड़ित है तो आपको गिलोय नहीं लेना चाहिए जैसे की सिस्टमिक लुपस एरिथ्रोमैट्स (SLE)
आप के लिए उपयुक्त खुराक के बारे में प्रशिक्षित आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें।

 

गिलोय का उपयोग कैसे करें How to use giloy in Hindi

 

गिलोय का सेवन करने का सबसे आसान तरीका है इसके तने को चबाकर खाएं। अस्थमा से पीड़ित लोगों के लिए यह तरीका बहुत अच्छा काम करता है।

अस्थमा के लोग लक्षणों को कम करने के लिए गिलोय के रस की भी कोशिश कर सकते हैं।

इसके अलावा मेडिकल स्टोर पर गिलोय पाउडर, काढ़ा (चाय) या टेबलेट के रूप मे मौजूद है जिसका उपयोग त्वचा की विभिन्न समस्याओं के लिए भी किया जा सकता है क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है।
आप घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए त्वचा पर गिलोय की पत्ती का पेस्ट लगा सकते हैं क्योंकि यह कोलेजन उत्पादन और त्वचा के उत्थान को बढ़ाने में मदद करता है।

 

गिलोय की खुराक Doses of Giloy in Hindi

 

 

गिलोय रस – 2-3 चम्मच रस, दिन

गिलोय का रस 2-3 चम्मच लें।
पानी की समान मात्रा जोड़ें।
अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए इसे दिन में एक या दो बार भोजन से पहले पिएं

गिलोय चूर्ण – ¼-½ चम्मच दिन में दो बार।

गिलोय चूर्ण का आधा चम्मच लें।
इसे शहद के साथ मिलाएं या इसे गुनगुने पानी के साथ पिएं।
भोजन के बाद इसे दिन में दो बार लें।

गिलोय टेबलेट(गिलोय घन वटी ) – 1-2 गोली दिन में दो बार।

1-2 गिलोय घन वटी लें।
दिन में दो बार भोजन लेने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

गिलोय कैप्सूल – गिलोय 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।

1-2 गिलोय कैप्सूल लें।
दिन में दो बार भोजन लेने के बाद इसे पानी के साथ निगल लें।

गिलोय अर्क – 1 चुटकी दिन में दो बार।

1 चुटकी गिलोय अर्क लें।
लिवर की बीमारियों में प्रभावी राहत के लिए इसे शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार लें।

यहाँ बताई गयी खुराक की मात्रा सिर्फ जानकारी हेतु है यह सलाह दी जाती है कि आप आयुर्वेदिक चिकित्सा विशेषज्ञ से परामर्श करने के बाद गिलोय का सेवन करें। स्वास्थ्य समस्या के प्रकार के आधार पर खुराक भिन्न हो सकती है। गिलोय और अश्वगंधा जैसी अन्य जड़ी-बूटियों का उपयोग करके विभिन्न मिक्षण को बनाया जा सकता है।

 

 

गिलोय का जूस Giloy Juice in Hindi

 

 

आप अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए गिलोय को कुछ अल्मा, अदरक और काले नमक के साथ मिला सकते हैं।

बस ब्लेंडर में सभी सामग्री डालें, साथ में कुछ पानी डालें और इसे अच्छी तरह से मिक्स कर लें।

मिश्रण का सेवन करने से पहले एक छलनी के माध्यम से छान लीजिये।

ताजा गिलोय का रस पीने से प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद मिलती है और इसका उपयोग एंटीपायरेटिक गतिविधि के कारण बुखार को प्रबंधित करने के लिए किया जा सकता है। यह प्लेटलेट काउंट को भी बढ़ाता है और डेंगू बुखार में मदद कर सकता है।

 

 

गिलोय का रस कैसे बनाये? How to Make giloy Juice in Hindi

 

 

गिलोय के कुछ डंठल लें और इन्हें एक गिलास पानी में तब तक उबालें जब तक कि इसकी मात्रा आधी न हो जाए। पानी को छान लें और रोजाना इसका सेवन करें।

यह आपके रक्त को शुद्ध करने, विषाक्त पदार्थों को हटाने और रोग पैदा करने वाले बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करेगा।

 

 

 

गिलोय का तना Giloy Stem in Hindi

 

 

गिलोय की स्टेम पाचन में सुधार, कब्ज, एसिडिटी, गैस और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। यह कमजोर पाचन तंत्र वाले लोगों के लिए अच्छा काम करता है।

यह शरीर की इंसुलिन प्रतिक्रिया को भी बढ़ाता है, इससे मधुमेह कम होता है।

इतना ही नहीं गिलोय का तना मानसिक तनाव को भी कम करता है, याददाश्त शक्ति को बढ़ाता है और नियमित रूप से इसका सेवन करने पर मानसिक रूप से शांत होने में मदद करता है।

 

 

गिलोय का काढ़ा Giloy Kadha in Hindi

 

 

गिलोय का काढ़ा कैसे बनाये?
How to make giloy kadha in Hindi

बस गिलोय को छील लें, इसे छोटे टुकड़ों में काट लें और 2 गिलास पानी के साथ सभी अवयवों में जोड़ें। इसे सभी एक साथ ब्लेंड करें। इसके बाद मध्यम आँच पर एक पैन लें और इसमें चिकना पेस्ट डालें और 2 गिलास पानी डालें और तब तक उबालें जब तक कढ़ा आधा न हो जाए।

 

 

गिलोय नीम एवं तुलसी का काढ़ा Giloy neem and Tulsi Kadha

 

 

आप गिलोय के साथ नीम एवं तुलसी को जोड़कर एक शानदार प्रभावी काढ़ा बना सकते हो वह भी घर पर पर ही।

सामग्री

1 इंच अदरक

6-7 नीम के पत्ते

7-8 तुलसी के पत्ते

5 लौंग

5 दाने काली मिर्च

गिलोय की 2 छोटी शाखाएँ

बस गिलोय को छील लें, इसे छोटे टुकड़ों में काट लें और 2 गिलास पानी के साथ सभी को मिक्स करलें । इसे सभी एक साथ ब्लेंड करें। इसके बाद मध्यम आँच पर एक पैन लें और इसमें चिकना पेस्ट डालें और 2 गिलास पानी डालें और तब तक उबालें जब तक कढ़ा आधा न हो जाए।

नीम और गिलोय के एंटी इन्फेलामीटरी गुणों को जोड़ता है और मधुमेह से राहत दिलाने में मदद करता है। तुलसी मौसमी फ्लू और गठिया जैसे रोग मे राहत देता है।

सारांश Giloy in Hindi

 

 

गिलोय के औषधीय प्रभावों पर विभिन्न अध्ययन और वैज्ञानिक मूल्यांकन किए गए हैं। यह धीरे-धीरे एक निवारक और नैदानिक ​​दवा के रूप में दुनिया के सभी हिस्सों में लोकप्रियता हासिल कर रहा है। इस जड़ी बूटी का महत्व दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है क्योंकि अधिक से अधिक लोग गिलोय के उपयोग को जानना शुरू करते हैं।

इम्यूनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें और इम्यूनिटी को बेहतर बनाने के लिए हमारे घरेलू उपचारों को आजमाएं।
प्रतिरक्षा बढ़ाने के तरीके के बारे में जानने के लिए हमारे प्रतिरक्षा लेख पर जाएँ।

कुदरती इममुनिटी बूस्टर आहार Immunity Booster Foods in Hindi

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.